• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Dabra News
  • अफवाहों के बीच हायर सेकंडरी परीक्षा शुरू, हाईस्कूल का पेपर 5 को होगा
--Advertisement--

अफवाहों के बीच हायर सेकंडरी परीक्षा शुरू, हाईस्कूल का पेपर 5 को होगा

हायर सेकंडरी परीक्षा चालू होने के 10 मिनट बाद ही हिंदी विषय का नकली पेपर शिवपुरी व मुरैना में वाट्सएप पर वायरल हो...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 04:10 AM IST
हायर सेकंडरी परीक्षा चालू होने के 10 मिनट बाद ही हिंदी विषय का नकली पेपर शिवपुरी व मुरैना में वाट्सएप पर वायरल हो गया। चंद मिनट बाद ही ग्वालियर में भी पेपर आउट होने की अफवाह फैल गई। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कुछ देर बाद ही वाट्सएप पर आए पेपर को गलत बताकर अफवाह को शांत किया। पहले दिन ग्वालियर में 733 छात्र गैर हाजिर रहे। अब अगला पेपर 5 मार्च को हाईस्कूल के छात्रों के साथ सभी 92 केंद्रों पर होगा।

हायर सेकंडरी परीक्षा के पहले दिन सभी 92 केंद्रों पर 17 हजार 244 छात्रों को परीक्षा देने पहुंचना था पर पहुंचे केवल 16 हजार 511 छात्र। जिला शिक्षा अधिकारी डॉ. आरएन नीखरा ने बताया कि स्पेशल हिंदी के पेपर में 733 छात्र गैर हाजिर रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब अगला पेपर 5 मार्च को होगा। इस दिन हाईस्कूल छात्रों के लिए संस्कृत विषय का पेपर होगा। वहीं हायर सेकंडरी छात्रों की परीक्षा अब 7 मार्च को विशिष्ट भाषा संस्कृत की होगी। इसमें बहुत कम छात्र शामिल होंगे।

पांच में से दो केंद्र बदले

डीईओ ने 16 फरवरी को 5 केंद्रों को बदलने का प्रस्ताव सचिव माध्यमिक शिक्षा मंडल के पास भेजा था। इनमें से तीन सेंटर के प्रस्ताव अमान्य हो गए हैं। इससे रॉयल किड्स अकेडमी हाईस्कूल चीनौर, न्यू ज्ञान मंदिर हाईस्कूल मऊछ, जय पीताम्बरा कॉन्वेंट हाईस्कूल दुहिया के छात्रों को अब 30 से 50 किमी दूर ही परीक्षा देने पहुंचना होगा। एसआर कॉन्वेंट हाईस्कूल व सिद्धार्थ कॉन्वेंट हाई स्कूल डबरा के छात्र अब मॉडल हाईस्कूल चांदपुर में परीक्षा देंगे। पहले इनके लिए शासकीय हाईस्कूल क्रमांक-2 को परीक्षा केंद्र बनाया था पर यहां पर छात्र संख्या ज्यादा हो गई थी। इसीलिए सेंटर अब बदल गए हैं।

मुरैना में नकलचियों का अर्धशतक

संयुक्त संचालक कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक पहले दिन 56 छात्र नकल करते पकड़े गए। इनमें अकेले मुरैना जिले के ही 54 छात्र हैं। अंचल के सभी आठ जिलों में हायर सेकंडरी परीक्षा में 4 हजार 802 छात्र गैर हाजिर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि नकल के मामले में चंबल संभाग के भिंड व मुरैना जिले प्रदेश में सबसे आगे रहते हैं।