Hindi News »Madhya Pradesh »Dabra» वित्त मंत्री ने 10 बार लिया ग्वालियर का नाम योजनाएं और घोषणाएं सब पुरानी, बजट नया

वित्त मंत्री ने 10 बार लिया ग्वालियर का नाम योजनाएं और घोषणाएं सब पुरानी, बजट नया

बिजनेस रिपोर्टर. ग्वालियर | प्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने बुधवार को बजट भाषण में 10 बार ग्वालियर का नाम लिया,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 04:20 AM IST

वित्त मंत्री ने 10 बार लिया ग्वालियर का नाम योजनाएं और घोषणाएं सब पुरानी, बजट नया
बिजनेस रिपोर्टर. ग्वालियर | प्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने बुधवार को बजट भाषण में 10 बार ग्वालियर का नाम लिया, लेकिन शहर के लिए बजट में नया कुछ भी नहीं दिया। जबकि ग्वालियर के लोगों को बजट से काफी अपेक्षाएं थीं। लेकिन सरकार ने नई घोषणाएं करने की अपेक्षा पिछले सालों के बजट की घोषणाओं को ही अमलीजामा पहनाने का काम किया है। स्मार्ट सिटी, चिकित्सा शिक्षा, सड़क, अपशिष्ट प्रबंधन, सिंचाई, सामान्य शिक्षा इत्यादि क्षेत्राें में पूर्व से चली आ रही योजनाआें की शुरुआत व पूर्णता को बताया। दैनिक भास्कर ने बजट भाषण की बातें और गिनाए गए कामों की हकीकत जानी। पढ़िए विस्तृत रिपोर्ट..

जानिए, वित्त मंत्री ने किस प्रोजेक्ट के बारे में बजट भाषण में क्या कहा और उसकी हकीकत

स्मार्ट सिटी: स्मार्ट सिटी योजना में भोपाल, इंदौर, जबलपुर, सागर, सतना के साथ ग्वालियर में भी नागरिकों को बुनियादी सुविधाएं, स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण, जीने के लिए उच्च स्तरीय गुणवत्ता तथा स्मार्ट समाधान प्राप्त होगा। 2018-19 के लिए 700 करोड़ का प्रावधान है।

हकीकत: वर्ष 2016 के दूसरे चरण में ग्वालियर को स्मार्ट सिटी में शामिल किया गया था। इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार से कुल 2200 करोड़ रुपए मिलने हैं। अभी सिर्फ 400 करोड़ रुपए स्वीकृत हुए हैं। राशि आई नहीं है। स्मार्ट सिटी के लिए कंट्रोल कमांड का ऑफिस भी बनकर तैयार नहीं हुआ है।

चिकित्सा शिक्षा: गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय में एक हजार बिस्तर के चिकित्सालय के चरणबद्ध निर्माण वर्ष 2018-19 में शुरू करने का लक्ष्य है। सुपर स्पेशलिटीज ब्लाॅक का निर्माण कार्य पूर्णता पर है।

हकीकत: इस प्रोजेक्ट को 20 साल पहले कांग्रेस सरकार लेकर आई थी। सितंबर 2009 में भाजपा शासित सरकार के मुख्यमंत्री ने भूमिपूजन किया था। पहले चरण में 170 करोड़ और दूसरे चरण में 150 करोड़ रुपए लागत आएगी। फिलहाल इसकी डीपीआर बनाई जा रही है।

टर्शयरी कैंसर केयर सेंटर : ग्वालियर में यह सेंटर स्थापित किया जाएगा। जिससे कैंसर मरीजों को लाभ होगा।

हकीकत: यह तत्कालीन यूपीए सरकार की 2012 की योजना है। कुल 45 करोड़ की लागत वाली इस योजना में छह माह पहले ही केंद्र सरकार ने 22 करोड़ रुपए भेज दिए हैं। बाकी पैसा प्रदेश सरकार को देना है जिसकी आज बजट में घोषणा की गई है। इस योजना में लीनियर एक्सीलरेटर मशीन की स्थापना की जानी है।

कृषि: मुख्यमंत्री भावांतर योजना में किसान शामिल हुए उन्हें रकम का भुगतान किया गया है।

हकीकत: 227 किसानों को 65 लाख 58 हजार रुपए रकम का भुगतान हो चुका है। अभी 20 किसान रह गए हैं, उन्हें भुगतान नहीं हुआ है क्योंकि उनका पंजीयन देरी से हुआ था।

सिंचाई: सिंध द्वितीय चरण पूर्णता पर है। इसके अतिरिक्त 86 लघु सिंचाई परियोजनाएं पूरी हो गई हैं।

हकीकत: यह योजना अपने चरण में घोटाले के कारण थम गई थी। उसके बाद इसका दूसरा चरण वर्ष 2008 के करीब शुरू हुअा था। योजना 650 करोड़ रुपए की थी। अभी इसमें 10 फीसदी काम होना और रह गया है।

अपशिष्ट प्रबंधन: कचरे से विद्युत उत्पादन के लिए इकाइयों की स्थापना का कार्य प्रगति पर है। हकीकत: गुरु ग्राम की कंपनी ईको ग्रीन द्वारा कचरे से विद्युत उत्पादन 2021 से केदारपुर प्लांट में शुरू हो पाएगा। ग्वालियर सहित अन्य 9 नगरीय निकायों से 800 टन कचरे की आवश्यकता है। अभी ग्वालियर से प्रतिदिन सिर्फ 250 टन कचरा मिल पा रहा है।

80 साल पहले शहर में दौड़ती थीं सिटी बस, अब जहर उगलते टैंपो

फोटो महाराज बाड़ा पर 1938 में संचालित सिटी बस का है। ग्वालियर एंड नाॅर्दन इंडिया ट्रांसपोर्ट कंपनी लि. बस चलाती थी। लेकिन 80 साल बाद आज शहर में जहरीला धुआं उगलते टेंपो ही सिटी ट्रांसपोर्ट का एकमात्र जरिया हैं। सिटी बस का संचालन अभी भी अधर में है।

सड़क: भारत सरकार की भारत माला योजना के प्रथम चरण में राज्य शासन के परामर्श पर 5987 किमी राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण की सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की गई है। ग्वालियर बायपास का निर्माण भी शामिल है।

हकीकत: रायरू निरावली से नयागांव तक 30 किमी के वेस्टर्न बायपास का प्रस्ताव साडा ने 2014 में केंद्र सरकार को भेजा था। इसमें वन विभाग का अड़ंगा है।

सामान्य शिक्षा: ग्वालियर में हर साल 1600 आदिवासी विद्यार्थियों को राष्ट्रीय स्तर के इंजीनियरिंग, मेडिकल तथा लॉ कॉलेज में प्रवेश को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट कोचिंग संस्थाओं के माध्यम से नि:शुल्क कोचिंग दिए जाने का प्रस्ताव है। हकीकत: उत्कृष्ट कोचिंग संस्थाओं के माध्यम से नि:शुल्क कोचिंग देने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

19 नई सड़कें बनेंगी

लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाई जाने वाली सड़कों में ग्वालियर ग्रामीण में बैरसा से छैकुर सुपावली तक सड़क, छह नंबर चौराहा से जड़ेरुआ बांध, लाल टिपारा होता हुआ चितोरा टूलेन मार्ग, महेदपुरा से कोलूपुरा मार्ग, जिगनियां से बेनीपुरा व्हाया चक गुंधारा मार्ग, भितरवार में जखोदा से लाेदूपुरा मार्ग, बेहराना से सेकरा मार्ग, दोरार से भंवरपुरा मार्ग, अमरोल से निकाड़ी मार्ग, सिकरोदा नहर पुलिया से खुर्दपार मार्ग, एराया से पिपरीपुरा, राेरा पहुंच मार्ग, दुवाह पहुंच मार्ग, बनवार से अमरोल मार्ग, मसूदपुर से दौलतपुर ईटमा मार्ग, डांडा खिरक से तिघरा मार्ग, गोल पहाड़िया होता हुआ गुप्तेश्वर मंदिर से मोतीझील मार्ग, डबरा में समूदन से सैंकरा मार्ग, इकौना से मोहना मार्ग, पिछोर से बडेरा मार्ग।

सीडब्ल्यूएसएन विद्यार्थियों के लिए छात्रावास जिला स्तरीय उत्कृष्ट विद्यालयों में बालक-बालिका छात्रावास जिला चिकित्सालय मुरार में 6 एफ एवं 12 एच टाइप आवास गृहों का निर्माण करियावटी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भवन के साथ एक-एक एच, जी टाइप आवास का निर्माण शाउमावि करहिया, करियावटी, मोहना, हस्तिनापुर, डीआरपी लाइन, शुकलहारी में बालिका छात्रावास का निर्माण।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Dabra News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: वित्त मंत्री ने 10 बार लिया ग्वालियर का नाम योजनाएं और घोषणाएं सब पुरानी, बजट नया
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Dabra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×