--Advertisement--

भाई व बहन की शादी: बेटा-बेटी का फर्क मिटाने के लिए परिवार ने दोनों को बैठाया घोड़ी पर

खरड़ूबड़ी में पहली बार भाई व बहन काे घोड़ी पर बैठाकर बाना निकाला।

Danik Bhaskar | May 12, 2018, 02:44 PM IST
खरड़ूबड़ी गांव में पहली बार भाई खरड़ूबड़ी गांव में पहली बार भाई

झाबुआ (एमपी)। जिले में गुरुवार रात पहली बार लोगों ने बाने (शादी से पहले की एक रस्म) में दुल्हन को घोड़ी पर सवार देखा। गांव में राजपूत समाज के टांक परिवार ने यह परंपरा तोड़ी। उदयसिंह ने कहा, हमारा परिवार बेटा-बेटी में भेदभाव नहीं करता। बेटे भूपेंद्र की शादी गांव की ही रीना से होने वाली है। जबकि, बहन प्रियंका की शादी झाबुआ जिले के सजनगढ़ गांव के सुनील से हो रही है।

- बेटी प्रियंका को ऐसा न लगे कि उसके भाई को तो घोड़ी पर बैठाया गया और उसको नजरअंदाज कर दिया गया। इसलिए दोनों के लिए घोड़ी बुलाई गई।

- दोनों को घोड़ी पर सवार कर गांव में बाना निकाला गया। उन्होंने बताया, हमारे परिवार में आज तक ऐसा नहीं हुआ था। बेटा-बेटी में समानता लाने के लिए हमने यह शुरुआत की है।

- बेटी की शादी के लिए परिवार ने विशेष रूप से नाचने वाली घोड़ी बुलाई। साधारण घोड़ी 4 हजार रुपए भाड़े पर आती है। इसके लिए हमने 7 रुपए प्रति घोड़ी किराया दिया। नाचती हुई घोड़ी पर बैठी प्रियंका डरी नहीं, कसकर लगाम पकड़ रखा था।