Hindi News »Madhya Pradesh »Dabra» आदिवासी दिवस के बहाने छुट्‌टी लेकर बंद और आंदोलन की तैयारी, एस-3 का नेता गिरफ्तार

आदिवासी दिवस के बहाने छुट्‌टी लेकर बंद और आंदोलन की तैयारी, एस-3 का नेता गिरफ्तार

प्रशासनिक रिपोर्टर| ग्वालियर सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के खिलाफ एक बार फिर बंद एवं...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 02, 2018, 03:10 AM IST

प्रशासनिक रिपोर्टर| ग्वालियर

सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के खिलाफ एक बार फिर बंद एवं आंदोलन की तैयारी की जा रही है। एससी-एसटी वर्ग के लोगों से जुड़े राजनीतिक व सामाजिक संगठन क्षेत्रों में लगातार बैठकें कर रणनीति बना रहे हैं। यह आंदोलन 9 अगस्त को होगा।

वहीं पुलिस ने इस आंदोलन को देखते हुए पहले की हिंसा में नामजद लोगों को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया है। क्राइम ब्रांच ने सम्यक समाज संघ (एस 3) के राष्ट्रीय सुरक्षा प्रभारी मकरंद सिंह बौद्ध को गिरफ्तार कर लिया है और उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। मकरंद के खिलाफ 2 अप्रैल को हिंसा फैलाने का केस थाटीपुर एवं मुरार थाने में दर्ज है।

वहीं 2 अप्रैल को हिंसा फैलाए जाने के मामले में सूत्रधार व 32 मामलों में आरोपी के तौर पर नामजद एस 3 के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाखन बौद्ध ने फिर खुली चुनौती दी है कि 9 अगस्त को यह आंदोलन पूरी ताकत से किया जाएगा। पुलिस इतने केस दर्ज होने के बाद भी लाखन को गिरफ्तार नहीं कर सकी है और अब वह फिर नए आंदोलन की तैयारी में जुटा है। दलित संगठनों द्वारा भारत बंद के आव्हान के साथ यह आंदोलन किया जाएगा। शासन-प्रशासन के पास भी इस आंदोलन को लेकर सूचनाएं पहुंच रही हैं और प्रशासनिक स्तर पर आंदोलन को रोकने व होने पर निपटने के लिए मंथन शुरू हो चुका है।

कई सरकारी विभागों में इस वर्ग से जुड़े कर्मचारियों द्वारा 8 व 9 अगस्त की छुट्टी के लिए आवेदन दिए जा रहे हैं, ताकि वे आंदोलन में अपनी भूमिका निभा सकें। हालांकि, विभागीय अधिकारी इन दिनों में छुट्टी स्वीकृत करने से इनकार कर रहे हैं। प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों की निगाह सभी विभागों के ऐसे कर्मचारियों पर टिकी हुई हैं, जो कि इन दो दिनों की छुट्टी मांग रहे। अधिकांश लोग 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस का बहाना बनाकर छुट्‌टी ले रहे हैं।

अप्रैल के आंदोलन में हुई थीं 3 मौतें

इस संशोधन के खिलाफ दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को भी भारत बंद का ऐलान किया था। जिसमें काफी हिंसा हुई और ग्वालियर शहर में दो व डबरा में एक युवक की मौत हुई। इस हिंसा के बाद कई दिनों तक कर्फ्यू लगा रहा व कानून व्यवस्था बनाए रखने में काफी परेशानियां हुईं। इस हिंसा में भी शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों की भूमिका बड़े स्तर पर सामने आई थी। हिंसा फैलाने व भड़काने वाले कई उपद्रवियों की शिनाख्त होने के बाद भी पुलिस अब तक कार्रवाई नहीं कर पाई है।

ज्ञापन देकर बोले-हम आंदोलन का करेंगे समर्थन

सर्व यथार्थ कबीर पंथी संगठन के लोगों ने बुधवार को कलेक्टोरेट पहुंचकर प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। इस ज्ञापन में कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट ने सवर्ण जाति के हित में एससी-एसटी कानून में संशोधन किया है। जिससे एससी-एसटी वर्ग के लोग काफी कमजोर हो गए हैं और उत्पीड़न बढ़ गया है। 9 अगस्त को एससी-एसटी वर्ग के लोगों द्वारा भारत बंद आंदोलन किय जा रहा है, जिसका हम समर्थन करेंगे। ज्ञापन देने वालों में शिवानदास, रामवीर सिंह, हाकिम शाक्य, प्रेम सिंह, रामप्रकाश सिंह आदि शामिल हैं।

9 अगस्त को लेकर अधिकारियों से चर्चा की जाएगी। फिलहाल सामूहिक अवकाश जैसे आवेदन मेरे सामने नहीं आए हैं। हम लोग हर मामले पर नजर रखे हुए हैं। - अशोक वर्मा, कलेक्टर

सोशल मीडिया पर हम लगातार निगाह रखे हुए हैं। जिन क्षेत्रों में 2 अप्रैल को उपद्रव हुआ था, वहां जाकर लोगों से संपर्क किया जा रहा है। किसी भी तरह के उपद्रव या हिंसा भड़काने वाले पर कार्रवाई की जाएगी। नवनीत भसीन, एसपी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dabra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×