Hindi News »Madhya Pradesh »Damoh» लक्ष्य 78 हजार, कनेक्शन किए 11 हजार, मीटर लगे सिर्फ ढाई हजार

लक्ष्य 78 हजार, कनेक्शन किए 11 हजार, मीटर लगे सिर्फ ढाई हजार

जिले में सौभाग्य योजना के तहत निशुल्क कनेक्शन देने के लिए बड़े स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन विभाग के पास...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 04:30 AM IST

जिले में सौभाग्य योजना के तहत निशुल्क कनेक्शन देने के लिए बड़े स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन विभाग के पास कनेक्शन करने के लिए मीटर ही नहीं हैं। ऐसे में विभाग केवल कनेक्शन के नाम पर नंबर अलॉट कर देता है और बिजली का बिल वसूलने लगता है, लेकिन उपभोक्ता को मीटर नहीं दिया जाता है। हालात ये है कि उपभोक्ता के मोबाइल पर बिल की राशि का मैसेज पहुंच जाता है और वह बिजली बिल जमा कर देता है। न तो उसके घर में कनेक्शन है और न ही मीटर लगा हुआ है। हालांकि घरों में बिजली जल रही है, इसलिए उपभोक्ता बिल भर रहे हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर रोशन करने के लिए सौभाग्य योजना के तहत नि:शुल्क अौर सामान्य लोगों से केवल नाममात्र का कनेक्शन शुल्क लेकर देना हैं। बिजली कंपनी क्षेत्र के अधिकारी-कर्मचारी ठेकेदार हितग्राहियों को कनेक्शन के नाम पर केवल बिजली जलाने की अनुमति दे रहे हैं, उनके घर में देखने के लिए न तो कनेक्शन है और न ही मीटर लगा है। कुछ हितग्राहियों ने बताया कुछ बोलते हैं तो योजना का लाभ देने से ही मना कर देते हैं।

दरअसल घर-घर रोशन करने वाली सौभाग्य योजना के तहत शत-प्रतिशत हितग्राहियों को लाभ देने में दमोह की स्थिति समान्य है। इसकी हकीकत यह है कि क्षेत्र में कई हितग्राहियों को लाभ नहीं मिला। जिन्हें लाभ मिला वे अवैध रूप से कनेक्शन के लिए विद्युत उपकरणों को जला रहे हैं और बिल भर रहे हैं, उन्हें स्वयं पता नहीं है कि उन्होंने कितनी बिजली जलाई है और कितनी राशि जमा करना है। बताया जाता है कि योजना के अनुरूप हितग्राही को कनेक्शन से लेकर लाइन फिटिंग, मीटर, वायरिंग से लेकर आवश्यक सभी उपकरण व सामग्री नि:शुल्क देना है।

साथ ही एक एलईडी बल्ब भी कमरे में बोर्ड सहित फीट करना है। मगर सामग्री न होने से उपभोक्तों को मिल कुछ नहीं रहा है, केवल बिजली का बिल भरने के लिए मौबाइल पर मैसेज आ रहा है। गजानन टेकरी के पास रहने वाली वृंदावन ने बताया कि उनके घर मंे बिजली का कनेक्शन नहीं हुआ है और न ही मीटर लगा है, केवल और केवल बिल दिया जा रहा है। इसी प्रकार की शिकायत ग्रामीण अंचलों में भ्रमण के लिए पहुंचे वित्तमंत्री जयंत मलैया के समक्ष ग्रामीणों द्वारा की गई है। जिस पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही गई है।

सौभाग्य योजना के तहत लगाए गए मीटर।

इसलिए बिगड़े हालात

दमोह में 2 लाख 47 हजार कनेक्शन सौभाग्य योजना से होने हैं। जिनमें से इस बार 78 हजार कनेक्शन होने हैं। जिले में अभी तक 11 हजार 800 कनेक्शन हो चुके हैं, लेकिन इनमें से मीटर मात्र ढ़ाई हजार ही लगे हैं। जिस एजेंसी को मीटर सप्लाई करना है, वह सप्लाई नहीं कर पा रही है। पूरे प्रदेश से इस कंपनी को मीटर सप्लाई का ठेका दिया गया है। लेकिन कंपनी आपूर्ति नहीं कर पा रही है। ऐसे हालात में मीटर लगाने को लेकर परेशानी जा रही है। इस संबंध मंे विद्युत वितरण कंपनी के एसई एसके गुप्ता का कहना है कि जिन हितग्राहियों को कनेक्शन योजना के तहत देना है, वे बिजली तो जला ही रहे हैं, जो बिजली जला रहे हैं।

यह है योजना

योजना के तहत अन्त्योदय व बीपीएल राशनकार्डधारी को शुल्क कनेक्शन सहित आवश्यक सामग्री नि:शुल्क देना हैं। सामान्य कार्डधारी हितग्राही से केवल कनेक्शन चार्ज के रुप में 500 रुपए लेना है वह भी नकद नहीं। उक्त राशि 10 महीनों की समान किस्त के रूप में बिल के साथ जुड़कर आएगी। योजना के तहत कनेक्शन के साथ विद्युत पोल से घर तक जहां मीटर लगेगा वहां तक सर्विस केबल, लोहे की एंगल, पाइप, मीटर व मीटर बोर्ड स्विच सहित बोर्ड, घर में एक बाेर्ड केबल सहित जिसमें एक एलईडी बल्ब, स्विच, अतिरिक्त केबल लगाने पाइंट आदि सहित कनेक्शन को जमीन में अर्थिंग देना है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Damoh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×