Hindi News »Madhya Pradesh »Damoh» अभाना से तेजगढ़ की सड़क पर लगाए जा रहे मिट्‌टी के पैबंद

अभाना से तेजगढ़ की सड़क पर लगाए जा रहे मिट्‌टी के पैबंद

अभाना से तेजगढ़ के बीच पीडब्ल्यूडी की सड़क के परखच्चे उड़ गए हैं। गड्ढों वाली इस सड़क से आवागमन संभव नहीं हो पा रहा है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 05:10 AM IST

अभाना से तेजगढ़ की सड़क पर लगाए जा रहे मिट्‌टी के पैबंद
अभाना से तेजगढ़ के बीच पीडब्ल्यूडी की सड़क के परखच्चे उड़ गए हैं। गड्ढों वाली इस सड़क से आवागमन संभव नहीं हो पा रहा है। ऐसे में पीडब्ल्यूडी ने इस सड़क के गड्ढों को मिट्टी से भरने का आदेश दे दिया है। गड्ढों के पेंच को बंद करने के लिए विभाग के डामर और गिट्‌टी भी नसीब नहीं हो रही है।

विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि उन्होंने अधिकारियों से कहा था कि साहब, मिट्‌टी भरने से धूल उड़ती है, गड्‌ढे बड़े हैं, इस पर अधिकारियों ने कहा कि...सड़क पर गड्ढे हैं तो रहने दो... तुम मिट्टी से भर दो। ऐसी स्थिति में विभाग के मजदूर डामर सड़क पर मिट्‌टी के पैबंद लगाने जुटे हैं। कर्मचारी पहले गड्‌ढों में मिट्‌टी भरते हैं फिर उसके बाद पानी डालते हैं। ऐसा होने से भले कुछ समय के लिए गड्‌ढा भर जाता है, लेकिन बाद में धूल उड़ना चालू हो जाती है। दरअसल महज दो साल पहले निर्मित अभाना तेजगढ़ मार्ग पर पेंचवर्क का काम चल रहा है, लेकिन जो सड़कें काफी जर्जर हालत में हैं या गड्ढों से भरी हैं उन्हें नजरंदाज कर दिया गया है। जिले के सर्वाधिक भीड़ वाले इस मार्ग पर विशालकाय गड्ढे को मिट्टी और रोड़े से पाट कर लोकनिर्माण विभाग ने गड्ढा मान लिया। अभाना के आगे परासई में पूरी सड़क गड्ढें से भरी है। कई जगह तो बढ़े-बढ़े गड्‌ढे हैं और इनमें हादसे भी हो रहे हैं। यहां पर पीडब्ल्यूडी के मजदूर के ही सड़क की मरम्मत करने में लगे हैं। इस सड़क का न तो कोई स्टीमेंट बताया जा रहा है और न ही कोई में मजदूर डाल सिंह, विजय सिंह, शंकर सिंह, कोमल सिंह, कड़ोरी, खुमान ने बताया कि अभी कोई बजट नहीं आया है। इसलिए मिट़्टी से ही पेंचवर्क भर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पहले वे पेंच में मिट्‌टी भर देते हैं, उसके बाद उस पर पानी डाल देते हैं, जिससे जोड़ मजबूत हो जाता है।

इस संबंध में पीडब्ल्यूडी ईई जेपी सोनकर का कहना है कि अभी मेंटनेंस के लिए स्टीमेंट बनाकर भेजा जा रहा है। मंजूरी मिलने पर सुधार कार्य कराया जाएगा। फिलहाल सड़क चलने लायक बनाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

मनमानी

पीडब्ल्यूडी ने मिट्टी से भरने का आदेश दे दिया, गड्ढों के पेंच को बंद करने के लिए विभाग को डामर और गिट्‌टी भी नसीब नहीं हो रही है

दमाेह। सड़क पर मिटटी से गडढे भरे जा रहे हैं।

पूरी सड़क का यही हाल है

दमोह-जबलपुर मार्ग पर ग्राम अभाना से तेंदूखेड़ा तक की सड़क जगह-जगह से उखड़ गई है। साथ ही कई जगह गहरे गड्‌ढे भी हो गए हैं। हालही में पीडब्ल्यूडी द्वारा इन गड्‌ढों को भरने का कार्य कराया जा रहा है। जिसमें पूरी सड़क पर डामर की सड़क पर मिट्‌टी भरी जा रही है। जिससे यह मिट्‌टी एक-दो दिन बाद धूल में तब्दील हो जाती है, जिससे पूरी सड़क पर धूल के गुबार उड़ने लगते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि भारी वाहनों के दबाव के कारण यह सड़क सबसे ज्यादा व्यस्त रहती है, लेकिन मिट्‌टी ज्यादा समय तक गड्‌ढों में नहीं टिक पाती और धूल बनकर उड़ जाती है। जिससे सड़क की मरम्मत में खर्च की जा रही लाखों रूपए की राशि व्यर्थ ही बर्बाद हो रही है। वहीं वाहन चालकों ने बताया कि डामर की इस सड़क पर डामर से ही गड्‌ढे भरे जाना चाहिए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Damoh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×