--Advertisement--

वन्य प्राणी प्रकरणों के निराकरण पर जज को मिलेंगे दोगुने अंक

कार्यालय संवाददाता | जबलपुर मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने वन्य प्राणी अपराधों के प्रकरणों के त्वरित निराकरण के...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 05:10 AM IST
वन्य प्राणी प्रकरणों के निराकरण पर जज को मिलेंगे दोगुने अंक
कार्यालय संवाददाता | जबलपुर

मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने वन्य प्राणी अपराधों के प्रकरणों के त्वरित निराकरण के लिए न्यायाधीशों को दिए जाने वाले अंकों में संशोधन किया है। अब वन्य प्राणी अपराध के निराकरण पर 3 के स्थान पर 6 अंक मिलेंगे।

इसके साथ ही वन अपराध प्रकरणों में संबंधित न्यायाधीश को 3 के स्थान पर 4 अंक दिए जाएंगे। इससे वन्य प्राणी अपराध प्रकरणों का जल्दी निराकरण हो सकेगा। प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी जितेन्द्र अग्रवाल ने बताया भारतीय दंड संहिता के तहत न्यायाधीशों को अंक दिए जाने का प्रावधान है। उच्च न्यायालय द्वारा विभिन्न प्रकार के अापराधिक प्रकरणों के निराकरण पर जज को दो से 16 अंक तक दिए जाते हैं। अभी तक वन और वन्य प्राणी अपराध निराकरण पर जज को 3-3 अंक मिला करते थे। वन विभाग द्वारा की गई पहल से अब वन्य प्राणी अपराध निराकरण होने पर 3 की जगह 6 और वन अपराध में 3 के स्थान पर 4 अंक दिए जाएंगे। इससे अब वन प्रकरणों के निराकरण में तेजी आ सकेगी।

हाईकोर्ट ने लागू की नई व्यवस्था, प्रकरणों का त्वरित निराकरण होगा

उड़ीसा व आंध्र प्रदेश से हो रही गांजे की सप्लाई

जबलपुर| जबलपुर इस समय गांजा की बड़ी मंडी बनी हुई है। यहां से ही आसपास के जिलों में गांजे की सप्लाई हो रही है। जबलपुर में उड़ीसा और आंध्र प्रदेश से सप्लाई हो रही है। जब भी उड़ीसा एवं आंध्र प्रदेश से आने वाले गांजे की खेप पकड़ी जाती है तो फिर यूपी से गांजे की खेप आनी शुरू हो जाती है। क्राइम ब्रांच की टीम एवं पुलिस द्वारा हाल ही में पकड़े गए गांजा तस्करों से पूछताछ में यह जानकारी हासिल हुई है कि बड़ी संख्या में गांजा तस्कर जबलपुर एवं आसपास के जिलों में सक्रिय हैं। जबलपुर से ही गांजे की सप्लाई कटनी, सिवनी, नरसिंहपुर, दमोह, सागर तक हो रही है। इन जिलों में गंाजा एजेन्ट पहले से ही खपत के अनुसार माल मंगा लेते हैं अौर फिर बाइक व अन्य साधनों से सप्लाई करते हैं। गांजे की सप्लाई के लिए गांवों के युवकों का भी सहारा लिया जा रहा है, ताकि शहर में हो रही सख्ती से बचा जा सके। पाटन के पड़रिया निवासी प्रताप िसंह एवं चौरई तेंदूखेड़ा निवासी शिव उर्फ महेन्द्र लोधी से 9 किलो गांजा बरामद होने के बाद जब उससे जानकारी ली गई तो पता चला कि उसके जैसे बहुत से लोग गांजा की तस्करी में लगे हुए हैं और वे ग्रामीण क्षेत्राें में ही गांजा सप्लाई करते थे।

धक्का देकर घर में घुसा फिर कर दी मारपीट- घमापुर थाना अंतर्गत सरकारी कुआं निवासी एक युवक शुक्रवार देर रात एक युवक के घर मेंें धक्का देकर घुसा और उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। पुलिस ने प्रकरण दर्ज करने के बाद मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि सरकारी कुआं निवासी 33 वर्षीय अमित सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई।

शुक्रवार रात 11.30 बजे इंद्रजीत मिश्रा उसका दरवाजा खटखटा रहा था। उसने दरवाजा खोला तो इंद्रजीत जबरदस्ती घर के अंदर घुस आया और उसके साथ मारपीट कर दी। पुलिस के अनुसार आरोपी की तलाश की जा रही है।

गांजा तस्कर को दो साल की सजा

जबलपुर|
जिला अदालत ने गांजा तस्करी के आरोप में पनागर निवासी एक युवक को दो साल की सजा सुनाई है। अपर सत्र न्यायाधीश आरआर बड़ाेदिया ने आरोपी पर 20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। अभियोजन के अनुसार पनागर पुलिस ने 11 सितंबर 2011 को बड़े स्कूल पनागर के पास रहने वाले कमलेश शर्मा से 5 किलो 200 ग्राम गांजा जब्त किया था।

दुष्कृत्य का प्रयास, 3 साल की सजा - अपर सत्र न्यायाधीश पीएल दिनकर ने नाबालिग से दुष्कृत्य के प्रयास के आरोपी को तीन साल की सजा और 6 हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है।

X
वन्य प्राणी प्रकरणों के निराकरण पर जज को मिलेंगे दोगुने अंक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..