बेटे को सीने से लगाते ही 85 साल की मां की निकली चीख- क्यों छोड़कर चले गए, रोत-रोते हुई बेहोश; बेटी बिलखते कहती रही एक ही बात- पापा सुनो न, एक बार उठ जाओ...बता दो ऐसा क्यों हुआ

मध्य प्रदेश न्यूज: शव को देख बार-बार बेसुध हो रही थी पत्नी, होश में आते ही कहती- मैं उसे मार डालूंगी...

Bhaskar News

Mar 17, 2019, 12:18 PM IST
Damoh Madhya Pradesh News in Hindi: Congress leader Devendra Chaurasia murder case

दमोह (मध्य प्रदेश)। हटा में शुक्रवार को हुई कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या के बाद शनिवार को सुबह 10 बजे मंदिर-मस्जिद चौराहा स्थित उनके निवास पर शव आते ही परिवार चीख-पुकार करने लगा। पत्नी संध्या चौरसिया बेकाबू हो गईं थीं और बार-बार एक ही रट लगाकर चिल्ला रहीं थीं...मैं उसे मार डालूंगी...मुझे छोड़ दो...इधर उनकी दोनों बेटियां भी बार-बार बेहोश हो रही थीं। बड़ी बेटी पिता के शव के पास जाकर बोल रहीं थीं...मेरे पापा बहुत अच्छे थे...। गंभीर रूप से घायल बेटा सोमेश पिता का शव चीख पड़ा। इधर पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए बसपा विधायक रमाबाई के दमोह और पथरिया स्थित निवास पर दबिश दी मगर मिला कुछ नहीं।

एसपी आरएस बेलवंशी ने आरोपियों पर 10 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। इधर सुबह से हटा नगर में बाजार लोगों ने स्वेच्छा से बंद रखा। इस बीच काफी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया था। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को पटेर मार्ग पर ढोलिया खेड़ा के पास एसएस डीसी प्लांट के ऑफिस में देवेंद्र चौरसिया और उसके बेटे सोमेश चौरसिया पर जानलेवा हमला किया गया था। हादसे में जबलपुर ले जाते समय देवेंद्र की मौत हो गई थी, जबकि उनका बेटा सोमेश गंभीर रूप से घायल हो गया था।

बेटे का शव देखते ही रोते-रोते मां बेहोश हो गईं

जैसे ही देवेंद्र का शव घर के सामने दर्शन के लिए रखा गया तो उनकी 85 साल की मां उजियारी बहू देखने के लिए पहुंची और बेटे को देखकर गले से लिपट कर रोनी लगीं। वह बेटे से कह रही थी...बेटा मुझे छोड़कर क्यों चले गए...वे रोते-राेते बेहोश गईं। लोगों के भी आंसू छलक आए और मां को कंधों पर ले जाया गया।

आराेपी की बजाय दूसरे इंद्रपाल काे पुलिस ने बुलाया

जिन 7 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है, पुलिस उन्हें तलाशने की जगह उनके मोबाइल नंबर पर फोन लगाकर थाने बुला रही है। जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के बेटे इंद्रपाल पटेल के नाम एफआईआर दर्ज है। देवेंद्र चौरसिया के निवास पर लोगों की भीड़ जमा थी। इस बीच इंद्रपाल पटेल नाम का एक युवक उनके घर पहुंचा और बोला। पुलिस का फोन आया है और उसे थाने में बुलाया है। पुलिस का कहना है कि इंद्रपाल पटेल के नंबर से तुम्हारा नंबर मिलता जुलता है, इसलिए थाने में आओ। युवक घबरा गया और देवेंद्र चौरसिया के बड़े भाई महेश चौरसिया के सामने रो-रोकर कहने लगा, पुलिस उन्हें थाने में बुला रही है, जबकि उसका कोई लेना देना नहीं है। परिजनों ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं होगा, हम पुलिस को स्थिति से अवगत कराएंगे।

लोकेशन जबलपुर नाका तक की मिली

हटा थाना प्रभारी धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि पीएम रिपोर्ट जबलपुर से आने के बाद हत्या की धारा बढ़ाई जाएगी। इधर सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी रात में दमोह जबलपुर नाका से निकले हैं। इसके अलावा किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई है। एसपी बेलवंशी ने बताया कि एएसपी की नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है। 10 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया गया है।

भाइयों ने बहन को ढांढस बंधाया

बड़ी बेटी शुभा सनी और अमीशा चौरसिया पिता के अंतिम दर्शन करने पहुंचीं। इस बीच अमीशा ने कहा कि पापा आपने किसी के साथ गलत नहीं किया, फिर उन्हींने आपके साथ क्यों गलत किया, हमें बता दो, जैसा आपको उन्होंने मारा, हम भी उनको मार देंगे, एक बार बता दो पापा, पापा...अब क्या होगा... सुनो पापा ...इस बीच भाइयों ने उन्हें संभाला और घर में ले गए।


मंत्री हर्ष यादव पहुंचे तो परिजन बोले-एसपी को बदला जाए

कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव ने देवेंद्र के बड़े भाई महेश चौरसिया, अशोक चौरसिया से बात की। इस बीच भाइयों ने मंत्री यादव को बताया कि हम कांग्रेस से जुड़े हैं फिर भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो रही है। एेसी लचर व्यवस्था रहेगी तो हम धरना देंगे तो पार्टी की छवि धूमिल होगी इसलिए आरोपियों की गिरफ्तारी की जाए। उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया और एसपी आरएस वेलबंशी को बदलने की बात कही। उन्होंने कहा कि पूरे मामले में एसपी की कार्यप्रणाली सही समझ में नहीं आ रही है। अारोप लगाया कि पुलिस आरोपियों को संरक्षण दे रही है।

शव देखते ही पत्नी बेसुध हो गई

देवेंद्र चौरसिया का पत्नी संध्या पति का शव घर पहुंचने पर बाहर निकली और बार-बार बोल रही थीं...उसको मैं मार डालूंगी...मुझे छोड़ दो। इस बीच परिजनों ने उन्हें पकड़ लिया और जबरन साथ में घर के अंदर ले जाने लगे, इस बीच वेसुध हो गईं। -भतीजा प्रवीण चौरसिया ने कहा कि चाचा देंवेद्र से पहले से कहा था कि यह परेशान कर रहे हैं। इन्हें मार डालो, मगर किसी ने गंभीरता से नहीं लिया। उन्हींने चाचा को मार दिया।

प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की चीज नहीं है

देवेंद्र के अंतिम संस्कार में पहुंचे पूर्व वित्तमंत्री जयंत मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की चीज नहीं है। कोई किसी के बस में नहीं है। इस मामले में जितने भी दोषी हैं, उनके खिलाफ चालान पेश हो और कार्रवाई की जाए। बीजेपी ने कभी इस तरह की घटनाओं का साथ नहीं दिया। उन्होंने बताया कि दमोह में जो घटना हुई थी, पथरिया के मंडी अध्यक्ष खरगराम पटेल को जिस तरह मारा गया था, उस मामले में भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा यदि गंभीरता दिखाई जाती यह वारदात नहीं होती। यह सरकार चलने के लिए बचाई जा रही है। अब दो तीन महीने की बात है।

अंतिम संस्कार में पहुंचे ये नेता

अंतिम संस्कार में पूर्व मंत्री डॉ. रामकृष्ण कुसमारिया, पूर्व वित्तमंत्री जयंत मलैया, विधायक प्रदुमन सिंह, विधायक पीएल तंतुवाय, पूर्व विधायक प्रताप सिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष अजय टंडन, विजय सिंह राजपूत, लखन पटेल, अभिषेक भार्गव, संतोष भारती सहित अनेक नेता पहुंचे। दोपहर दो बजे सोमेश ने पिता को मुखाग्नि दी।

बसपा विधायक रामबाई की मांग-सीबीआई जांच हो

पथरिया की बसपा विधायक रमाबाई जिलाध्यक्ष आशाराम चौधरी के साथ एसपी के पास पहुंची अौर ज्ञापन दिया। ज्ञापन में उन्होंने दमोह लोकसभा क्षेत्र प्रभारी कौशलेंद्र सिंह उर्फ चंदू और जिला उपाध्यक्ष गोविंद सिंह परिहार को देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड मामले में झूठा फंसाने की बात कहते हुए सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने कहा वारदात के समय दोनों लोग घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे। उन्होंने बताया कि कौशलेंद्र सिंह की पत्नी नेहा सिंह को दमोह सीट से बसपा प्रत्याशी बनाया जाना तय है इसलिए उन्हें षड्यंत्र के तहत फंसाया जा रहा है।


एसपी बेलवंशी बसपा विधायक और उनके परिवार के दबाव में

देवेंद्र चौरसिया के भतीजे प्रवीण चौरसिया ने मीडिया से चर्चा में एसपी आरएस बेलवंशी को हटाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि एसपी पथरिया विधायक और उनके परिवार के दबाव में हैं। उनकी कार्यप्रणाली से हमारा परिवार संतुष्ट नहीं हैं।
आरोप लगाया इनके रहते हुए हमारे परिवार को न्याय नहीं मिलेगा और परिवार में लोगों की हत्याएं और होगीं। न्याय नहीं मिलने पर हम लोग अमरण अनशन पर बैठेंगे। उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री कमलनाथ और मुख्य निर्वाचन आयोग से तत्काल एसपी को हटाने की मांग की है। उनकी पथरिया विधायक और उनके परिवार से सांठगांठ है, वे पूरे मामले में मिले हुए हैं।

X
Damoh Madhya Pradesh News in Hindi: Congress leader Devendra Chaurasia murder case
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना