आश्वासन के बाद भी चौराहों-गलियों से नहीं हटा आवारा मवेशियों का डेरा

Damoh News - आएदिन दुर्घटनाएं होने और बार-बार मांग उठने के बावजूद शहर की सड़कों से मवेशी नहीं हट पाए हैं। इसका खामियाजा...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:06 AM IST
Damoh News - mp news despite assurances the stray cattle did not move from the streets
आएदिन दुर्घटनाएं होने और बार-बार मांग उठने के बावजूद शहर की सड़कों से मवेशी नहीं हट पाए हैं। इसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। शहर के प्रमुख चौराहों और सड़कों पर दिन-रात मवेशियों का जमावड़ा रहता है, जो लोगों की परेशानी बढ़ा रहा है।

किल्लाई नाका से बस स्टैंड, घंटाघर चौराहा, तीन गुल्ली, अस्पताल चौराहा और जबलपुर नाका सहित आदि स्थानों पर मवेशियों का जमघट लगा रहता है। इनके अलावा प्रमुख बाजारों में भी यही स्थिति रहती है। मवेशियों के समूह रास्ते के बीच में आवागमन प्रभावित करते हैं। कई बार बीच सड़क पर यह मवेशी लड़ते हैं और राहगीरों को नुकसान पहुंचाते हैं। दिन के साथ रात में भी बड़ी संख्या में मवेशी सड़कों पर बैठे रहते हैं। इससे वाहन निकालना तक मुश्किल हो जाता है।

बाजार में पैदल निकलना भी मुश्किल: शहर की सब्जीमंडी कचौरा और दीवान जी की तलैया सुबह और शाम को बडी संख्या में मवेशियों का जमावड़ा रहता है। हालात यह हो जाती है कि यहां से कार आदि वाहन तो निकाल ही नहीं सकते और पैदल निकलना भी मुश्किल हो जाता है। विजय नगर कालोनी निवासी शिक्षक अनिल कुमार जैन ने बताया कि सेंट्रल स्कूल के सामने से लेकर किल्लाई नाका और बस स्टैंड के बीच में सड़कों पर मवेशियों का डेरा होता है, व्यस्त रहने वाले इस रास्ते पर दिन भर मवेशियों के झुंड बैठते हैं, रात में भी चलना मुश्किल हो जाता है। कई बार तो बाइक सवार इन मवेशियों के झुंड की वजह से हादसे का शिकार तक हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि शहर की हर सड़क पर आवारा मवेशियों की धमाचौकड़ी है। पशु मालिकों की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि ऐसा होने से वाहन चालकों को परेशानी जा रही है। रोज कोई न कोई हादसे का शिकार हो रहा है।

किल्लाई नाका से सेंट्रल स्कूल तक सड़क पर आवारा मवेशियों का जमावड़ा।

मवेशियों को शहर से बाहर करने की योजना नहीं, बधियाकरण का आदेश जारी

शहर में वेटरनरी और नगरपालिका की ओर से सांड़ों के बधियाकरण को लेकर मुहिम चलाने का आदेश जारी हुआ है। जिसमें नगरपालिका और नगर पंचायत स्तर पर आवारा सांडों को पकड़कर उनका बधियाकरण करने की बात कही गई है। सभी जगह आदेश भी भेज दिए गए हैं, लेकिन अभी तक एक भी बधियाकरण करने का रिकाॅर्ड सामने नहीं आया है। इस संबंध में सीएमओ कपिल खरे का कहना है कि मवेशियों को पकड़ने के लिए मुहिम चलाई जानी है। अभी जगह तय की जा रही है।

भास्कर संवाददाता। दमोह

आएदिन दुर्घटनाएं होने और बार-बार मांग उठने के बावजूद शहर की सड़कों से मवेशी नहीं हट पाए हैं। इसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। शहर के प्रमुख चौराहों और सड़कों पर दिन-रात मवेशियों का जमावड़ा रहता है, जो लोगों की परेशानी बढ़ा रहा है।

किल्लाई नाका से बस स्टैंड, घंटाघर चौराहा, तीन गुल्ली, अस्पताल चौराहा और जबलपुर नाका सहित आदि स्थानों पर मवेशियों का जमघट लगा रहता है। इनके अलावा प्रमुख बाजारों में भी यही स्थिति रहती है। मवेशियों के समूह रास्ते के बीच में आवागमन प्रभावित करते हैं। कई बार बीच सड़क पर यह मवेशी लड़ते हैं और राहगीरों को नुकसान पहुंचाते हैं। दिन के साथ रात में भी बड़ी संख्या में मवेशी सड़कों पर बैठे रहते हैं। इससे वाहन निकालना तक मुश्किल हो जाता है।

बाजार में पैदल निकलना भी मुश्किल: शहर की सब्जीमंडी कचौरा और दीवान जी की तलैया सुबह और शाम को बडी संख्या में मवेशियों का जमावड़ा रहता है। हालात यह हो जाती है कि यहां से कार आदि वाहन तो निकाल ही नहीं सकते और पैदल निकलना भी मुश्किल हो जाता है। विजय नगर कालोनी निवासी शिक्षक अनिल कुमार जैन ने बताया कि सेंट्रल स्कूल के सामने से लेकर किल्लाई नाका और बस स्टैंड के बीच में सड़कों पर मवेशियों का डेरा होता है, व्यस्त रहने वाले इस रास्ते पर दिन भर मवेशियों के झुंड बैठते हैं, रात में भी चलना मुश्किल हो जाता है। कई बार तो बाइक सवार इन मवेशियों के झुंड की वजह से हादसे का शिकार तक हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि शहर की हर सड़क पर आवारा मवेशियों की धमाचौकड़ी है। पशु मालिकों की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि ऐसा होने से वाहन चालकों को परेशानी जा रही है। रोज कोई न कोई हादसे का शिकार हो रहा है।

X
Damoh News - mp news despite assurances the stray cattle did not move from the streets
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना