विज्ञापन

मुनावर-झारौली गांव की चार हजार आबादी के लिए पानी के स्रोत नहीं

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 03:15 AM IST

Damoh News - दस हैंडपंप में से दो का पानी पीने योग्य, 8 हैंडपंप में निकलता है खारा पानी भास्कर संवाददाता। बनवार जनपद जबे रा...

Banwar News - mp news no water sources for four thousand population of munn jharoli village
  • comment
दस हैंडपंप में से दो का पानी पीने योग्य, 8 हैंडपंप में निकलता है खारा पानी

भास्कर संवाददाता। बनवार

जनपद जबे रा के पठारी क्षेत्रों में बसे गांव के लोगों के लिए गर्मी में पीने के पानी की एक एक बूंद के लिए संघर्ष करना पड़ता है। क्योंकि इन ग्रामों पीने के पानी के स्रोत नहीं है न ही पेयजल की योजनाओं का लाभ ग्रामीण आबादी तक पहुंच पाया। जिससे गर्मी में पेयजल की किल्लत ग्रामीणों का दिन का चैन रातों की नींद हराम कर देती है।

हम ऐसे ही एक गांव ग्राम पंचायत मुनावर झारौली के जल संकट की बात कर रहे जहां पेयजल स्रोत नहीं होने की बजह से खेतों के निजी बोर से गांव तक पेयजल की सप्लाई की जाती है। हैंडपंप होने के बाद हैंडपंप का पानी खारा होने की वजह से पीने के लायक नहीं होता और जिन एक दो हैंडपंप का मीठा है उन पर चार हजार की आबादी के लिए पीने के पानी की जरूरत पूर्ति के लिए दिन रात चलने की वजह से आए दिन खराब हो जाता है।ग्राम पंचायत मुनावर झारौली दोनों गांव की आबादी चार हजार के करीब है और मुनावर की दो हजार की आबादी पर दो हैंडपंप जिससे पीने के पानी की ज़रुरत के लिए पूरा गांव आश्रित है। एक निर्मल नीर है लेकिन ठंड में तल हटी निकल आती है।

गर्मी के पहले नल-जल योजना शुरू होना जरूरी : सचिव

सचिव ने कहा कि अभी पेयजल का संकट शुरू हुआ है अगले महीने से कुएं सूखने पर पेयजल संकट को दूर करने के लिए निजी बोर से पानी डालना पड़ता है। ग्राम पंचायत के सचिव उम्मेद सिंह ने बताया कि पेयजल स्रोतों के नाम पर हैंडपंप तो लेकिन अधिकांश हैंडपंपों में खारा पानी निकलता है निर्मल नीर जल स्तर स्ट्रांग नही है निजी बोर से जल स्रोतों में पानी डाला जा रहा ग्राम में स्व जल धारा की नलजल योजना स्वीकृत हुई सरपंच के लिए स्व जल धारा का प्रशिक्षण भी नीति आयोग के द्वारा दिया गया गर्मी के पहले यह नलजल योजना चालू हो जाती है तो ठीक है नहीं तो ग्राम पंचायत में पेयजल की किल्लत बेकाबू हो जाएगी।

झरौली में 4 हैंडपंपों से निकलता है खारा पानी

झारौली गांव का जहां पर 5 हैंडपंप में से एक स्कूल आंगनबाड़ी का हैंडपंप जिसमें पीने के लिए मीठा पानी निकलता है बाकी के चार हैंडपंपों का पानी खारा निकलता है जो कि पीने के लायक तक नहीं रहता। दो हजार की आबादी पर पेयजल स्रोत के नाम पर मात्र एक हैंडपंप है जिसके चलते पुरातन जल स्रोत वाली कुओं में खेतों के बोर से पानी डाला जाता है।

X
Banwar News - mp news no water sources for four thousand population of munn jharoli village
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन