मोबाइल से संस्कारों का हनन हो रहा है : सुधा

Damoh News - ओजस्विनी स्कूल में पत्रकारों से रू-ब-रू हुईं श्रीमती मलैया भास्कर संवाददाता | दमोह मोबाइल के प्रभाव से...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:25 AM IST
Damoh News - mp news sanskars are being abusive from mobile sudha
ओजस्विनी स्कूल में पत्रकारों से रू-ब-रू हुईं श्रीमती मलैया

भास्कर संवाददाता | दमोह

मोबाइल के प्रभाव से संस्कारों का हनन हो रहा है। लोग अपनों से दूर होते जा रहे हैं। मोबाइल पर वो सारी चीजें उपलब्ध हैं, जो लोग पसंद करते हैं, लेकिन ऐसा होने से माता-पिता के प्रति आदर भाव, सामाजिक सभ्यता, संस्कृति, संस्कार और सामाजिक मान्यताएं खत्म होती जा रही हैं।

एक दो साल का बच्चा आईपेड से लेकर सारी चीजें जानता है, मोबाइल में कौन सी चीज कहां है, यह बताने की जरुरत नहीं हैं। इससे बचने के लिए हमें सभी के बीच सामान्य व्यवहार करना चाहिए। मोबाइल संस्कृति से नई जनरेशन को दूर रखने का ज्यादा से ज्यादा प्रयास करना चाहिए। यह बात लेखिका, विचारक और ओजस्विनी स्कूल फार एक्सीलेंस की चेयरपर्सन डॉ. सुधा मलैया ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा में कही।

उन्होंने कहा कि पढ़ाई के लिए सरकार को नैतिक शिक्षा का पाठ भी पढ़ाना चाहिए, ताकि हम अपनी संस्कृति को बचा कर रख सकें। उन्होंेन कहा कि दमोह मंे सीमेंट प्लांट से पहले रोजगार के साधन नहीं थे, कम लोगों की रोजगार मिल पाता था, ऐसे में हमने 4 सौ से ज्यादा लोगों को रोजगार देने का काम किया है। शिक्षा क्षेत्र में गरीब बच्चों को सभी तरह के कोर्स मिल सके, ऐसा हमारा प्रयास रहा, यहीं कारण है कि आज भी हम सभी वर्ग के बच्चों के लिए पढ़ाने का सही प्लेटफार्म उपलब्ध करा रहे हैं।

जिले में पुरात्तव की भारी संभावनाएं

उन्न्होंने बताया कि दमोह में पुरातत्व की दृष्टि से भारी संभावनाएं हैं। सकौर में शिव जी का मंदिर गुप्त काल है। इसी दोनी अलोनी में भी पुरा संपदा भरी पड़ी है। दमोह में केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति मंत्री सांसद प्रहलाद पटेल के बनने से संभावनाएं बढ़ गईं हैं।

X
Damoh News - mp news sanskars are being abusive from mobile sudha
COMMENT