हिरन नदी से रेत का व्यापार, शिकायत फिर भी पुलिस से लेकर अफसर चुप

Damoh News - भास्कर संवाददाता | तेंदूखेड़ा पाटन की हिरन नदी से अवैध रेत सप्लाई का बड़े पैमाने पर व्यापार चल रहा है। पुलिस और...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:25 AM IST
Damoh News - mp news the trade of sand from the hiran river the complaint is still silent from the police
भास्कर संवाददाता | तेंदूखेड़ा

पाटन की हिरन नदी से अवैध रेत सप्लाई का बड़े पैमाने पर व्यापार चल रहा है। पुलिस और खनिज विभाग सालभर मंे एक या दो हाइवा पकड़कर कार्रवाई कर अपनी औपचारिकता कर लेता है। जबकि प्रतिदिन कई दर्जन हाइवा रेत तेदूखेड़ा ब्लाॅक के ग्रामों एवं दमोह तक जा रही है।

खास बात यह है कि दिन के अपेक्षा शाम 7 बजे के बाद सुबह सात बजे तक अवेध रेत ढोने का कारोबार चलता है। दो दिन पहले खनिज विभाग ने रेत से भरा एक हाइवा पकड़कर तेंदूखेड़ा थाने में रखवाया था। जिसे शुक्रवार को जुर्माने की कार्रवाई कर छाेड़ दिया गया है।

रात भर तेंदूखेड़ा, तारादेही एवं तेजगढ़ पुलिस के सामने से ही दिन धहाड़े अवैध रेत ले जाई जाती है। जिन पर कभी भी कोई कार्रवाई नहीं होती है। साथ ही तीनों थानों के चौराहे पर 100 डायल पर पुलिस मौजूद रहती है, लेकिन रेत से भरे हाईवा वाहनों को नहीं रोकता है। सिर्फ ट्रकों या फिर चार पहिया वाहन चालकों को रोका जाता है।

तेंदूखेड़ा ब्लाॅक की 63 ग्राम पंचायतों में सालभर में सीसी रोड सहित कई करोड़ों रूपए के निर्माण कार्य होते हैं, जिनमें पाटन हिरन नदी की रेत लगाई जाती है, लेकिन किसी भी सरपंच या सचिव के पास एक भी हाईवा रेत की रायल्टी नहीं होती है। इसके अलावा रेत सप्लाई करने वाले ठेकेदार के पास भी रायल्टी नहीं है। इसके अलावा रेत के कारोबारी जगह-जगह सरकारी जमीन पर स्टाक बना रहे हैं। जिस पर प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है। इस मामले में स्थानीय लोगों का कहना है कि बिना पुलिस की सेटिंग से ये करोबार नहीं हो सकता है। रेत का करोबार पुलिस की जानकारी में रहता है। जब भी वाहन चेकिंग लगती है तो उस समय एक भी रेत का हाइवा नहीं गुजरता है।

की जाएगी कार्रवाई

इस संबंध में यहां के एसडीअोपी अशोक चौरिसया ने कहा मैं इस मामले को अभी दिखवाता हूं। यदि बिना रायल्टी के रेत सप्लाई की जा रही होगी तो विधिवत कार्रवाई की जाएगी।

X
Damoh News - mp news the trade of sand from the hiran river the complaint is still silent from the police
COMMENT