• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Datia News
  • Datia - वार्डों में 24 घंटे ड्यूटी के लिए तैनात होंगे 40 जूनियर डॉक्टर
--Advertisement--

वार्डों में 24 घंटे ड्यूटी के लिए तैनात होंगे 40 जूनियर डॉक्टर

कलेक्टर व एसपी ने ली डॉक्टरों की बैठक भास्कर संवाददाता | दतिया इंजेक्शन से दो लोगों की मौत होने के बाद प्रशासन...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:31 AM IST
कलेक्टर व एसपी ने ली डॉक्टरों की बैठक

भास्कर संवाददाता | दतिया

इंजेक्शन से दो लोगों की मौत होने के बाद प्रशासन ने व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने का प्लान तैयार किया है। बुधवार को कलेक्टर वीरेंद्र सिंह रावत एवं एसपी मयंक अवस्थी ने मेडिकल कॉलेज में जिला अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज के स्टॉफ की बैठक लेकर व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। बैठक में तय किया गया कि जिला अस्पताल के वार्डों में राउंड टू क्लॉक डॉक्टर की ड्यूटी लगाई जाए। इसके लिए मेडिकल कॉलेज के 40 जूनियर डॉक्टर को जिम्मेदारी दी जाएगी।

जिला अस्पताल में मेडिकल कॉलेज व जिला अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा ट्रीटमेंट किया जा रहा है, लेकिन दोनों के बीच सामंजस्य नहीं बैठने की वजह से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। ड्यूटी होने के बाद भी कई डॉक्टर गायब रहते थे। जिनके खिलाफ कार्रवाई नहीं हो पा रही थी। पिछले दिनों हुई घटना के बाद कलेक्टर वीरेंद्र सिंह रावत एवं एसपी मयंक अवस्थी ने मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर व नर्सों की बैठक बुलाई। उन्होंने कहा कि वार्डों में नियमित राउंड लिए जाएं। राउंड लेते वक्त मेडिकल कॉलेज के सीनियर डॉक्टर का होना जरूरी है, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। वार्डों में राउंड टू क्लॉक डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई जाए। इसकी जिम्मेदारी सिविल सर्जन डॉ. पीके शर्मा को सौंपी गई, उनके द्वारा मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई जाएगी। यदि मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के संबंध में किसी प्रकार की शिकायत है तो इसकी शिकायत वह मेडिकल कॉलेज के डीन राजेश गौर को सूचित करेंगे। ताकि मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के खिलाफ भी कार्रवाई की जा सके। इस बीच डॉक्टरों ने सुरक्षा पर सवाल करते हुए कहा कि इस तरह की घटनाओं से अस्पताल में भय का माहौल बन रहा है, अस्पताल की सुरक्षा बढ़ाई जाए। जिस पर एसपी मयंक अवस्थी ने आश्वासन दिया कि सुरक्षा व्यवस्था पर ध्यान दिया जाएगा, वहीं तोड़-फोड़ करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन डॉक्टर व नर्स मरीजों काे बेहतर सेवाएं दें। जिससे विवादास्पद स्थिति निर्मित न हो। बैठक में डीन राजेश गौर, सीएमएचओ डॉ. प्रदीप उपाध्याय, सिविल सर्जन डॉ. पीके शर्मा व डॉक्टर्स, नर्स मौजूद रहे।

यह होंगे अस्पताल में सुधार