• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Datia News
  • भांडेर में 13 करोड़ से बनाए कृषक बाजार गोदामों का पंजीयन कराना ही भूले अफसर
--Advertisement--

भांडेर में 13 करोड़ से बनाए कृषक बाजार गोदामों का पंजीयन कराना ही भूले अफसर

सेंवढ़ा ब्लॉक में बनाया गया कृषि बाजार, जिसका फायदा नहीं मिल पा रहा। गोदाम पंजीकृत नहीं होने से गोदामों का...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:15 AM IST
सेंवढ़ा ब्लॉक में बनाया गया कृषि बाजार, जिसका फायदा नहीं मिल पा रहा।

गोदाम पंजीकृत नहीं होने से गोदामों का अनुबंध नहीं हो रहा

बाजारों का संचालन जिन संस्थाओं को दिया गया उनके पास खुद के संसाधन इतने बोने हैं कि वह बमुश्किल बाजार की रक्षा के लिए एक चौकीदार की भर्ती कर पाए हैं। प्रशासन की उपेक्षा का हाल यह है कि बाजार में बने गोदाम पंजीकृत ही नहीं करवाए गए। जिसके कारण अब वेयर हाउस से गोदामों का अनुबंध नहीं हो रहा। नतीजा यह हो रहा है कि आने वाली खरीद के वक्त एक बार फिर सेंवढ़ा क्षेत्र में क्रय किए गए गेहूं को भंडारण के लिए 60 किलोमीटर दूर दतिया में भेजा जाएगा। दूसरी ओर अब तक कृषि विभाग एवं पशु चिकित्सा विभाग को भी उनके लिए आवश्यक स्थल उपलब्ध नहीं करवाया गया है।

अभी तक क्या क्या हुआ

शासन द्वारा बुंदेलखंड पैकेज से इन बाजारों की स्थापना बड़े कस्बों के आसपास की गई थी। मसलन कृषक बाजार जसवंत नगर सेंवढ़ा से दो किलोमीटर दूर हैं तो कृषक बाजार कुठौंदा इंदरगढ़ से तीन किलोमीटर दूर। वहीं कृषक बाजार सेंथरी थरेट के पास है। इन बाजारों के लिए बुंदेलखंड पैकेज के तहत करोड़ों का बजट स्वीकृत हुआ था। बाजार बन कर 2014 में तैयार हो गए थे। इसके बाद दो वर्ष बाद यह जिला सहकारी बैंक की करीबी संस्थाओं को दिए गए। इस बीच इनका उपयोग शासन ने अन्य कार्यों के लिए किया। मसलन बच्चों को दी जाने वाली साइकिलों का भंडारण सेंवढ़ा के बाजार में है तो पंचायत का चुनाव भी यहीं से संचालित किया गया था। जिन स्थलों के निर्माण में करोड़ों खर्च हुए अब वहां गंदगी घास का ढेर हैं।