• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Datia
  • 8 विभागों ने लोन स्वीकृति के लिए 2262 केस भेजे, बैंकों ने सिर्फ 600 किए स्वीकृत
--Advertisement--

8 विभागों ने लोन स्वीकृति के लिए 2262 केस भेजे, बैंकों ने सिर्फ 600 किए स्वीकृत

Datia News - विकास पुत्र हुकुम सिंह अहिरवार निवासी वनवास ने मिशन योजना के तहत रोजगार के लिए जून माह में 2 लाख रुपए लोन के लिए...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:25 AM IST
8 विभागों ने लोन स्वीकृति के लिए 2262 केस भेजे, बैंकों ने सिर्फ 600 किए स्वीकृत
विकास पुत्र हुकुम सिंह अहिरवार निवासी वनवास ने मिशन योजना के तहत रोजगार के लिए जून माह में 2 लाख रुपए लोन के लिए आवेदन दिया। जिला पंचायत ने केस बनाकर बैंक में भेज दिया। लेकिन 8 माह के बाद भी लोन स्वीकृत नहीं किया गया।

रामप्रकाश पुत्र देवलाल निवासी साकोली इंदरगढ़ ने मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना के लिए 50 हजार का लोन के लिए जुलाई माह में आवेदन किया था। लेकिन 7 माह के बाद भी बैंक प्रबंधक ने लोन स्वीकृत नहीं किया है।

मिथलेश पुत्र हीरा सिंह कटीली ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत दो लाख रुपए के लोन के लिए आवेदन किया। लोन केस बैंक में 6 माह पूर्व पहुंच चुका है। इसके बाद भी रोजगार के लिए बैंक प्रबंधक लोन स्वीकृत नहीं कर रहे हैं।

बबली प|ी रघुवीर निवासी अकोला ने 6 माह पूर्व में लोन के लिए आवेदन किया था। लोन के लिए केस बनकर बैंक पहुंच चुका है। बैंक प्रबंधक लोन को स्वीकृत नहीं कर रहे हैं। जिसकी वजह रोजगार के लिए परेशान हो रहा हूं।

केस-1

बैंक में लोन से संबंधित जानकारी लेने के लिए पहुंचे बेरोजगार युवा।

बेरोजगार लगा रहे बैंकों के चक्कर

शासन बेरोजगारों के रोजगार के लिए हर प्रयास कर रही है। वहीं जिले में विभागों को टारगेट दे रहा है। लेकिन अधिकारियों की मनमानी के कारण बेरोजगारों को लोन स्वीकृत नहीं हो पा रहे हैं। लोन आवेदनकर्ता रोजाना लोन स्वीकृति के लिए बैंकों के चक्कर लगा रहे हैं।

केस-2

हमने टारगेट पूरा करने के लिए सभी बैंकों को लिखा है पत्र


केस-3

केस-4

कैसे होंगे टारगेट पूरे, मार्च में रहती बैंक क्लोजिंग

अभी 50 प्रतिशत टारगेट पूरा नहीं हुआ है। हितग्राही बैंकों में चक्कर लगा रहे हैं। खास बात यह कि लीड बैंक प्रबंधक का कहना है कि मार्च माह में टारगेट को शत-प्रतिशत पूरा करा दिया जाएगा। लेकिन मार्च माह में सभी बैंकों की क्लोजिंग रहती है। सभी बैंक कर्मचारी लेनदेन को भी कम कर देते हैं। वहीं अपने हिसाब-किताब में लगे रहते हैं। बेरोजगारों के लिए सबसे बढ़ी समस्या है यदि उन्हें लोन नहीं मिला तो वह रोजगार नहीं कर सकेंगे। वहीं मार्च माह बाद सभी केस फाइल रद्द हो जाएगीं।

X
8 विभागों ने लोन स्वीकृति के लिए 2262 केस भेजे, बैंकों ने सिर्फ 600 किए स्वीकृत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..