--Advertisement--

भिंड-भांडेर हाईवे पर दोपहर 3 बजे के बाद नहीं चलते वाहन

लोग डग्गामार वाहन से करते हैं यात्रा, परिवहन विभाग नहीं करता कार्रवाई भास्कर संवाददाता | खूजा भांडेर अनुभाग...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 07:40 AM IST
लोग डग्गामार वाहन से करते हैं यात्रा, परिवहन विभाग नहीं करता कार्रवाई

भास्कर संवाददाता | खूजा

भांडेर अनुभाग में डेढ़ साल से बस संचालकों की मनमानी चरम पर है। हालत यह है कि बस संचालक दोपहर तीन बजे के बाद यात्री वाहन को भिंड-भांडेर हाईवे पर चलाना बंद कर देते हैं। तीन बजे के बाद यात्रा करने वाले यात्रियों को डग्गामार वाहन से यात्रा करना पड़ता है या फिर सड़क पर ही बैठे रह जाते हैं।

भिंड-भांडेर हाईवे रोड पर भांडेर होते हुए बिछाैंदना से चिरगांव झांसी के लिए आधा दर्जन यात्री बसों का संचालन होता है। यात्रियों को घंटों इन बसों के इंतजार में सड़क किनारे बैठा देखा जा सकता है, लेकिन दोपहर तीन बजे के बाद भिंड से भांडेर की तरफ आने वाली बसों के पहिए थम जाते हैं। यही हाल भांडेर से दतिया की ओर जाने वाली बसों का है। इस रूट पर भी शाम पांच बजे के बाद बसों का आना जाना बंद हो जाता है। मजबूरन यात्रियों को डग्गामार वाहन का सहारा लेना पड़ता है।

यह डग्गामार वाहन भी नजदीकी गांव तक जाते हैं। 87 किमी लंबे भिंड और 30 किमी दूर दतिया जाने वाले यात्री अगर यात्री वाहन निकल गया तो फिर गांव में ही आश्रय लेना पड़ता है। यह समस्या पिछले छह महीने से है, आसपास के गांव के लोग कई बार ज्ञापन भी सौंप चुके हैं लेकिन बसों का संचालन शाम तक नहीं हुआ है। इस समस्या से लहार, झांसी, भांडेर, समथर, चिरगांव समेत आसपास के 25 गांव के ग्रामीण जूझ रहे हैं। फिर भी सुनवाई नहीं हो रही।