--Advertisement--

पुरातत्व और विरासत को सहेजता है इंटेक: कपूर

कार्यक्रम में अतिथियों को स्मृति चिन्ह देते आयोजक। इंटेक ने प्रतिभागियों को बांटे प्रमाण-पत्र भास्कर...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:27 AM IST
कार्यक्रम में अतिथियों को स्मृति चिन्ह देते आयोजक।

इंटेक ने प्रतिभागियों को बांटे प्रमाण-पत्र

भास्कर संवाददाता | दतिया

भारतीय सांस्कृतिक निधि इंटेक क्षेत्रीय कला संस्कृति पुरातत्व और विरासत को संरक्षित करने हेतु प्रयास ही नहीं करता बल्कि अपने अध्यायों के माध्यम से लोगों को जागरूक भी करता है। यंग इंटेक के माध्यम से युवा छात्र/छात्राओं में विरासत के प्रति सम्मान बढ़ाता है। इसलिए विद्यालय में आयोजित प्रतियोगिताएं महत्वपूर्ण होती हैं। उक्त विचार बनारस चैप्टर के संयोजक इतिहासकार अशोक कपूर ने बुधवार को राजघाट कॉलोनी स्थित शारदा स्कूल में आयोजित प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि दतिया चैप्टर की गतिविधियां विरासत पत्रिका में पढ़कर इनके कार्यों को जानने की उत्सुकता रहती थी। कपूर दतिया में अल्पप्रवास पर बुंदेलखण्ड के किलों, महलों पर शोधकर्ता हेतु यात्रा पर आए थे। इंटेक दतिया द्वारा गत माह में हुई रूट टू रूट्स चित्रकला प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण में उन्होंने सभी को प्रमाण पत्र किए। उनके साथ आजीवन सदस्य जयश्री कपूर भी मौजूद रहीं। अध्यक्षता खेल समन्वयक संजय रावत एवं विशिष्ट अतिथि के तौर पर अरुण सिद्धगुरु, सुनील कुशवाहा,प्राचार्य अनीता कुशवाहा भी मौजूद रहीं। दतिया के पुरातत्व एवं इतिहास पर प्रकाश विनोद मिश्रा संयोजक ने डाला। रावत एवं अरुण सिद्ध गुरु ने दतिया चैप्टर की गतिविधियों की सराहना की। इस अवसर पर 27 छात्र-छात्राओं को दिल्ली से प्राप्त प्रमाण-पत्र वितरित किए गए।