• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Datia News
  • गांवों के सरकारी स्कूलों का रिजल्ट सौ फीसदी, उत्कृष्ट स्कूलों काे भी पछाड़ा
--Advertisement--

गांवों के सरकारी स्कूलों का रिजल्ट सौ फीसदी, उत्कृष्ट स्कूलों काे भी पछाड़ा

ग्रामीण क्षेत्रों से प्रतिभाएं निकल रही हैं। हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूल के परीक्षा परिणामों ने यह साबित कर...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:55 AM IST
ग्रामीण क्षेत्रों से प्रतिभाएं निकल रही हैं। हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूल के परीक्षा परिणामों ने यह साबित कर दिया है। ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे कई हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट सौ फीसदी रहा है। जबकि शहर व ब्लॉक मुख्यालय पर चल रहे सुविधा संपन्न उत्कृष्ट स्कूलों का रिजल्ट भी इतना नहीं पहुंच पाया। यह हाल तब है, जब शहर व कस्बाई इलाकों के स्कूलों में शिक्षकों की पर्याप्त संख्या के अलावा भवन व लैब की भी व्यवस्था है। लेकिन यह सुविधाएं ग्रामीण इलाके के स्कूलों में नहीं है।

बता दें कि उत्कृष्ट विद्यालयों में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से ही प्रवेश दिया जाता है। यानि यह तय है कि इन विद्यालयों में सिर्फ मेधावी छात्र ही प्रवेश ले पाते हैं। यहीं नहीं इस स्कूलों के विकास सहित अन्य संसाधनों के लिए शासन अतिरिक्त राशि उपलब्ध कराता है। जिले के योग्य शिक्षकों को पदस्थ किया जाता है। बावजूद इसके जिले के उत्कृष्ट विद्यालयों से ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

जिले के 354 छात्र-छात्राओं को 28 मई को भोपाल में मिलेंगे लैपटॉप

दतिया | मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना के तहत जिले के 354 छात्र-छात्राओं को हायर सेकंडरी के वार्षिक परीक्षा परिणाम में बेहतर प्रदर्शन करने पर लैपटॉप दिया जाएगा। छात्र-छात्राओं को 28 मई को भोपाल में आयोजित समारोह में यह राशि प्रदान की जाएगी। दतिया से सभी छात्र-छात्राएं बसों से 27 मई को भोपाल के लिए रवाना होंगी। इनके साथ विभागीय शिक्षक भोपाल जाएंगे। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से इन होनहार छात्रों की सूची भोपाल भेजी जा चुकी है।

ऐसे समझें ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों का रिजल्ट क्यों अच्छा आया

सेंवढ़ा ब्लाॅक: गांव के स्कूल से सात फीसदी कम रहा उत्कृष्ट का रिजल्ट

उत्कृष्ट विद्यालय- हाईस्कूल का 83.87, हायर सेकंडरी 93.55 रहा परिणाम:
स्कूल में कुल 285 हाई व हायर सेकंडरी के छात्र-छात्राएं दर्ज हैं। इनको पढ़ाने के लिए विषय विशेषज्ञ 15 शिक्षक पदस्थ हैं। न किसी संसाधन की कमी और न ही शिक्षकों की। बावजूद शिक्षकों द्वारा छात्रों की पढ़ाई पर ध्यान न दिए जाने के कारण परिणाम अच्छा तो रहा, लेकिन शासन की मंशानुसार नहीं। बता दें कि उत्कृष्ट विद्यालय को अंग्रेजी माध्यम का माना जाता है। प्रवेश के लिए लिखित परीक्षा होती है। यानि योग्य छात्र ही इसमें प्रवेश पाते हैं।



भांडेर ब्लाॅक: गांव के स्कूल का उत्कृष्ट से 39% रिजल्ट ज्यादा रहा

उत्कृष्ट विद्यालय - हाई स्कूल 75.5 फीसदी, हायर सेकंडरी 71.3 परीक्षा परिणाम रहा:
विद्यालय में कुल 426 छात्र छात्राएं हैं। सभी विषयों के 17 शिक्षक पदस्थ हैं। किसी संसाधन की कमी नहीं फिर भी ग्रामीण क्षेत्र के पंडोखर हाई स्कूल से परीक्षा परिणाम कम रहा है।


ग्रामीण क्षेत्रों में पढ़ाई में सुधार हो रहा है