• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Datia News
  • स्वास्थ्य, शिक्षा और सड़क की नहीं सुविधा शिकायत के बाद भी नहीं की जा रही व्यवस्था
--Advertisement--

स्वास्थ्य, शिक्षा और सड़क की नहीं सुविधा शिकायत के बाद भी नहीं की जा रही व्यवस्था

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती मरीज। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र शासन ने यहां कुल 6 डॉक्टरों व 7...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:55 AM IST
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती मरीज।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र

शासन ने यहां कुल 6 डॉक्टरों व 7 नर्सों का स्टाफ स्वीकृत किया है। लेकिन वर्तमान में हाल यह है कि 6 डॉक्टरों में केन्द्र पर सिर्फ 3 डॉक्टर की पदस्थ हैं। शेष 3 डॉक्टरों के पद लंबे समय से खाली है। नर्सों के भी 3 पद रिक्त हैं। डॉक्टर व नर्सों के पद खाली होने से अनुभाग के 142 गांव की आबादी को शासन की स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं मिल पाता। मरीज के गंभीर होने पर डॉक्टर तत्काल उसे दतिया झांसी रैफर कर देते हैं। ऐसे में गरीब मरीजों के सामने इलाज का संकट पैदा हो जाता हैं। बता दें कि केन्द्र पर हर दिन लगभग 1 सैकड़ा मरीज इलाज के लिए आते हैं। सामान्य बीमारियों में भी मरीज की हालत गंभीर होने पर डॉक्टर स्टाफ कम होने के कारण उन्हें तत्काल रैफर कर देते हैं।

शासकीय महाविद्यालय

महाविद्यालय में कला के साथ विज्ञान की कक्षाएं संचालित की जाती हैं। महाविद्यालय में नगर के साथ आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के 550 से अधिक छात्र-छात्राओं ने प्रवेश ले रखा है। बच्चों को पढ़ाने के लिए शासन ने 15 पद तो स्वीकृत कर दिए। लेकिन आज तक शिक्षकों की व्यवस्था नहीं की। वर्तमान में 2 स्थायी शिक्षक ही यहां पदस्थ है। शेष 13 पद खाली हैं। अतिथि विद्वानों के सहारे महाविद्यालय चल रहा हैं। इस पर भी विज्ञान संकाय के जूलॉजी, बॉटनी विषय के अतिथि शिक्षकों के न होने से इन विषय के छात्रों को कोचिंगों को सहारा लेने के लिए मजबूर होना पड़ रहा हैं। बीएससी प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले छात्र अशोक पिरोनिया के अनुसार शिक्षक न होने के कारण वह प्राइवेट कोचिंग कर अपनी पढ़ाई कर रहे हैं।

कई बार की मांग, फिर भी नहीं हो रही सुनवाई

स्वास्थ्या, शिक्षा और सड़क के संबंध में जनता कई बार मांग कर चुकी हैं। अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों को भी ज्ञापन सौंपे जा चुके हैं। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही हैं। इससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

वरिष्ठ कार्यालयों को भेजा है पत्र


सोहन व सालौन-बी के डॉक्टरों को किया है अटैच: परिहार