पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Datia News Mp News Bus Operators Did Not Charge Fare List Making More Recovery

बस संचालकों ने नहीं लगाई किराया सूची, कर रहे ज्यादा वसूली

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भांडेर से ग्वालियर, झांसी सहित अन्य मार्गों पर चलने वाली बसों व सवारी वाहनों द्वारा परिवहन विभाग के नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। बसों में महिला व दिव्यांग यात्रियों के बैठने के लिए सीटें आरक्षित रखने की शर्त पूरी न करते हुए बेखौफ दौड़ रही है। वहीं रफ्तार से दौड़ने वाली इन यात्री बसों में किराया सूची व सवारी वाहनों में फर्स्ट एड बाॅक्स तक की भी सुविधा नहीं है। इसके अलावा साइडों से रेडियम पट्टी का भी अभाव है। जबकि, इन नियम का उल्लंघन करने वालों पर मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 86 के तहत कार्यवाई करने की प्रावधान है।

भांडेर से ग्वालियर जाने वाली सवारियों को बस मालिक और कंडक्टर ग्वालियर तक छोड़ने की बात बोलकर बिठा लेते हैं। वहीं सवारियों से मनमर्जी किराया भी वसूल करते हैं। दतिया बस स्टैंड पर आने पर मालिक और कंडक्टर सवारियों को अन्य बस में बिठा देते है। इस दौरान कई बार सवारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार तो अन्य बसों में बिठाने को लेकर सवारियों से बहस तक हो जाती है। ऐसा आए दिन बस स्टैंड पर देखने को मिलता है। बसों में सफर करने वाली महिला यात्रियों को कई बार लंबी यात्रा भी खड़े-खड़े करनी पड़ती है। परिवहन विभाग से जारी आदेश में सभी क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों को दिव्यांग व महिला यात्रियों को सफर के दौरान सीट उपलब्ध रहने, किराया सूची लगाने, रेडियम पट्टी लगाने आदि के निर्देश दिए गए थे। लेकिन उसके बाद भी बस मालिक निर्देश पर अमल नहीं कर रहे है। इसका उदाहरण आवागमन कर रही बसों में कभी भी देखा जा सकता है। हैरत यह कि अब तक परिवहन विभाग द्वारा ऐसी बसों पर कोई कार्यवाई नहीं की गई है। इसके अलावा बसों में किराया सूची नहीं लगी है आलम यह कि बस ड्राइवर और बस कंडक्टर बिना यूनिफार्म के ही बस चला रहे हैं। किराया सूची नहीं होने से कई बार किराए को लेकर यात्रियों व कंडक्टर के बीच विवाद की स्थिति बन जाती है। बसों में प्राथमिक चिकित्सा बाॅक्स भी नही है। इसी के साथ बसों की फिटनेस भी सही नहीं है। इसके बाद भी नगर के बस स्टैण्ड से धड़ल्ले से बसों को चलाया जा रहा है।

यात्री वाहनों के नियम
1. मोटरयान अधिनियम के तहत बस में आगे छह सीट महिलाओं व एक सीट दिव्यांग के लिए आरक्षित रखने का प्रावधान है।

2. वह भी गेट के ठीक सामने वाली सीटों का है यह नियम बसों को जारी परमिट की कंडिका छह-सात में स्पष्ट रूप से दर्ज किया गया है जिसमें किराया सूची गेट के अंदर व बाहर गेट के साइड से लगाना जरूरी है

3. साथ ही बस के अंदर इमरजेंसी गेट व दो गेट यात्रियों के चढ़ने उतरने के लिए लगाना आवश्यक है

4. साथ ही बस के आगे-पीछे व साइड से रेडियम पट्टी लगाना अनिवार्य है।

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें