• Hindi News
  • Mp
  • Datia
  • Datia News mp news sir bca and i have not given scholarship for 6 years to another student on my document

सर, मेरे दस्तावेज पर दूसरी छात्रा को करा रहे हैं बीसीए और मुझे 6 साल से छात्रवृत्ति नहीं दी

Datia News - कलेक्टर जामोद को गंदे चावल दिखाती वार्ड 34 निवासी महिला। राशि हड़प रहे सरपंच-सचिव ग्राम अगोरा निवासी...

Dec 04, 2019, 08:12 AM IST
कलेक्टर जामोद को गंदे चावल दिखाती वार्ड 34 निवासी महिला।

राशि हड़प रहे सरपंच-सचिव

ग्राम अगोरा निवासी दीपेंद्र सिंह पुत्र चंद्रभान सिंह बुंदेला ने आवेदन देकर बताया कि ग्राम पंचायत अगोरा में सरपंच और सचिव द्वारा आपस में सांठ गांठ कर शासन की योजनाओं की धनराशि निजी खर्च में लगाई जा रही है। पीएम आवास योजना के तहत जो भी आवास स्वीकृत किए गए वे हितग्राहियों से पैसा लेकर स्वीकृत किए गए। जिसने रुपया नहीं दिया उसका अस्वीकृत कर दिया गया। शिकायत कर्ता ने सरपंच और सचिव द्वारा किए गए कार्यों की जांच कराकर कार्रवाई की मांग की।

चकवेना सचिव पर लगाया पीएम आवास और शौचालय निर्माण में भ्रष्टाचार का आरोप

ग्राम चकवेना निवासी बलवीर ने आवेदन देकर बताया कि पंचायत चकवेना के सचिव द्वारा पीएम आवास योजना के तहत भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। ग्रामीण हितग्राहियों से 30-30 हजार रुपए मांगे गए। गांव के हरी जाटव से 15 हजार रुपए लिए गए और शौचालय निर्माण बनवाने के लिए कमल सिंह के नाम 3500 रुपए लिए। बलवीर जाटव से पांच हजार रुपए केवल नाम जुड़वाने और दो हजार रुपए शौचालय के लिए ले लिए। जबकि इन हितग्राहियों को किश्तें नहीं मिली हैं। इस संबंध में पूर्व में भी आवेदन दिया गया लेकिन कार्रवाई आज तक नहीं हुई।

महिलाओं को अपमानित करने का आरोप

शहर की बीड़ी मजदूर उर्मिला, रजनी, सराेज, अनीता, हेमा, ज्योति गौतम, मीना, सुनीता, रेखा, प्रीति प्रजापति, हेमलता, जमुना, इमरती, शीला, रेखा, किरण आदि महिलाओं ने जनसुनवाई में आवेदन देकर बताया कि वे करीब 30 साल से बीड़ियां बनाकर अपना व परिवार का भरण पोषण करती हैं। महिलाओं को एक हजार बीड़ी बनाने के लिए दतिया में 120 रु. प्रति एक हजार के हिसाब से भुगतान मिल रहा है जबकि अन्य शहरों डबरा, ग्वालियर, शिवपुरी में बीड़ी मजदूरों की रेट 150 रु. प्रति हजार है। जबकि‍ यहां के बीड़ी मालिक हमारी यूनियन के अध्यक्ष से मिले हुए हैं। बीड़ी मालिक अध्यक्ष को चुपचाप रुपए देकर उसका मुंह बंद किए हैं और यहां पर एक हजार बीड़ी पर दो सौ बीड़ी अधिक लेते हैं तथा पत्ता व तंबाकू कम पत्ती, एक किलो की जगह 750 ग्राम देते हैं। जब महिलाओं ने मालिक चेलाराम सिंधी से शिकायत की तो उसने जातिगत अपमानित कर भगा दिया। बीड़ी बनाने वाली महिलाओं ने अपनी यूनियन का नया अध्यक्ष बनवाने और बीड़ी मजदूरी बढ़वाए जाने की मांग की है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना