• Hindi News
  • Mp
  • Datia
  • Datia News mp news the work of mini smart city was done in 18 months not long ago approval was not granted in 6 months

मिनी स्मार्ट सिटी के काम 18 माह में हाेने थे पूरे अब तक शुरू ही नहीं, 6 माह में मंजूरी ही नहीं मिली

Datia News - मिनी स्मार्ट सिटी के तहत शहर के अंदर 21 करोड़ के विकास कार्य होने हैं। इनके लिए दिसंबर 2018 में वर्क ऑर्डर भी जारी हो...

May 18, 2019, 07:15 AM IST
मिनी स्मार्ट सिटी के तहत शहर के अंदर 21 करोड़ के विकास कार्य होने हैं। इनके लिए दिसंबर 2018 में वर्क ऑर्डर भी जारी हो चुके हैं लेकिन विभागों से अनुमति न मिलने के कारण एक भी निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका है। स्मार्ट सिटी में काम करने वाले अधिकारी दफ्तर-दफ्तर चक्कर लगा रहे हैं लेकिन अधिकारी कभी डिमांड लेटर थमा देते हैं तो कभी लेटर फोरवर्ड कर देने की बात कह देते हैं। इसी में विभागों ने छह महीने लगा दिए। लेकिन इस बीच नुकसान शहर को हो रहा है। खास बात यह है कि स्मार्ट सिटी के तहत सभी काम 18 माह में पूरे होने थे जिसमें से छह महीने गुजर चुके हैं।

बता दें कि दतिया शहर को मिनी स्मार्ट सिटी में शामिल करने की घोषणा तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 15 जून 2018 को दतिया में हितग्राही सम्मेलन में की थी। इसके बाद नगरीय प्रशासन ने दतिया नगर पालिका को 26 जून 2018 को स्मार्ट सिटी योजना में शामिल करने की घोषणा की और एक पत्र भी स्थानीय प्रशासन के पास भेज दिया। इसके बाद शासन ने स्थानीय प्रशासन से स्मार्ट सिटी योजना के तहत कराए जाने वाले निर्माण कार्यों को लेकर प्रस्ताव मांगे। प्रस्ताव शासन को भेजे जाने के बाद मंजूरी मिल गई। अक्टूबर 2018 में जनप्रतिनिधियों ने 21 करोड़ की राशि से कराए जाने वाले विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास भी कर दिया था। इन सभी निर्माण कार्यों का ठेका अर्वन डेवलपमेंट कंपनी (यूडीसी) को मिला और 14 दिसंबर 2018 को वर्क ऑर्डर जारी कर दिए गए थे। स्मार्ट सिटी योजना के तहत होने वाले सभी विकास कार्यों की समय सीमा 18 महीने निर्धारित की गई है। योजना के तहत ठंडी सड़क पर भी दोनों तरफ और डिवाइडर पर लाइटें लगाई जाना है। बस स्टैंड बायपास पर भी स्ट्रीट लाइटें लगाई जाना है। सफेद लाइटों से हाईवे और शहर के सड़क मार्ग को रोशन किया जाना है। लेकिन अभी तक परमीशन न मिलने के कारण ये सभी काम रुके हैं और छह महीने का समय गुजर चुका है।

शहर में 21 करोड़ रुपए की लागत से कराए जाने हैं विकास कार्य, लेकिन काम अब तक शुरू नहीं हुआ

शहर की ठंडी सड़क के इस फव्वारे का सौंदर्यीकरण कराया जाना है।

नए स्वरूप में लौटेगी ठंडी सड़क, बंद फव्वारे शुरू होने से बढ़ेगी खूबसूरती

ठंडी सड़क के दोनों तरफ नहरें बनी थीं। ये दोनों नहरें 20 साल पहले तक बहती हुई देखी गईं। साथ ही ठंडी सड़क के दोनों तरफ बने प्राचीन छोटे बड़े फव्वारे भी 20 साल पहले तक चलते देखे गए। लेकिन इसके बाद न केवल फव्वारे बंद हो गए बल्कि नहरों पर अतिक्रमण हो जाने से नहर तो दूर नाले भी नहीं बचे हैं। लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है। अब मिनी स्मार्ट सिटी योजना के तहत फव्वारों को चालू कर आकर्षक लाइटिंग की जाएगी। ठंडी सड़क के दोनों तरफ नए तरीके से नहर का निर्माण होगा। नहर किनारे लाइटें लगाकर आकर्षक बनाया जाएगा। ताकि सुबह और शाम के समय लोग यहां पहुंचकर रिलेक्स महसूस करें और अच्छे वातावरण में आनंदित हों।

शहर के दरवाजों का होगा सौंदर्यीकरण

इसी योजना में शहर के बड़े दरवाजों का भी सौंदर्यीकरण होगा। यूडीसी द्वारा छोटे और बड़े दरवाजे पर रंग रोगन कर नया जैसा बनाया जाएगा और लाइटिंग की जाएगी। इसी प्रकार पीतांबरा पीठ के सामने बने दरवाजों की रिपेयरिंग कराकर लाइटें लगवाई जाएंगी, ताकि दूर से ही लोगों यहां का नजारा अपनी तरफ आकर्षित करे। लाइट लग जाने से यहां खूबसूरती बढ़ जाएगी।

हाईवे पर होगी लाइटिंग

स्मार्ट सिटी योजना के तहत न्यू कलेक्टोरेट से नवीन केंद्रीय विद्यालय भवन तक सात किमी लंबे हाईवे पर सर्विस रोड व डिवाइडर पर डबल लाइट लगाई जाएगी। शहर में झांसी चुंगी से राजगढ़ चौराहा, राजगढ़ चौराहे से अग्रसेन चौराहा, अग्रसेन चौराहा से उनाव रोड स्थित हवाई पट्टी और अग्रसेन चौराहे से ही सेंवढ़ा चुंगी तक नई लाइट लगाई जाएगी। इससे राहत मिलेगी।

तालाबों की होगी साफ-सफाई

मिनी स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर के करनसागर और सीतासागर तालाब का भी सौंदर्यीकरण किया जाना है। यूडीसी द्वारा दोनों तालाबों की सफाई कराई जाएगी। तालाबों के किनारे लाइटें लगाई लगेंगेीं और सौंदर्यीकरण कर तालाबों को पिकनिक स्पाॅट में तब्दील किया जाएगा।

लेटर ऑनलाइन भोपाल भेजा है, वहीं से अनुमति मिलेगी




धराेहर राशि जमा कराएं तत्काल एनअाेसी देंगे


विभागाें से एनअाेसी लेना है, लेकिन मिली नहीं


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना