विज्ञापन

मंदिर पर श्रद्धालुओं के रुकने का इंतजाम नहीं

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 05:15 AM IST

Datia News - प्रसिद्ध मंदिरों की सूची में शुमार है भगवान बालाजी का मंदिर भास्कर संवाददाता | उनाव बुंदेलखंड के दर्शनीय...

Unnav News - mp news there is no arrangement for devotees to stay at the temple
  • comment
प्रसिद्ध मंदिरों की सूची में शुमार है भगवान बालाजी का मंदिर

भास्कर संवाददाता | उनाव

बुंदेलखंड के दर्शनीय स्थलों में शुमार भगवान बालाजी के प्रसिद्ध सूर्य मन्दिर पर सुविधाओं का अभाव है। यहां देश के कौने-कौने से बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शनों के लिए पहुंचते हैं। साल में कुछ कार्यक्रम ऐसे होते हैं, जिनमें श्रद्धालुओं की संख्या हजारों से अधिक होती है। बावजूद यहां श्रद्धालुओं को रूकने की कोई व्यवस्था नहीं है। मंदिर तो दूर, नगर में भी श्रद्धालुओं के लिए रात बिताने का ठिकाना नहीं है। जिससे उन्हें खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

उनाव में न तो रैन बसेरा है और न ही विश्राम ग्रह जैसी सुविधा। श्रद्धालुओं को रूकने ठहरने के प्रबंध न होने से समस्या से दो चार होना पड़ रहा है। फिर भी सूर्य मंदिर पर सुविधाओं के विस्तार को लेकर प्रशासन द्वारा कोई पहल नहीं की जा रही है। विश्राम गृह के अभाव में यहां आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पिछले फरवरी माह में यहां उच्चस्तर के जनप्रतिनिधि, अधिकारियों सहित कई न्यायिक वर्ग के वीआईपी सूर्यमंदिर पर भगवान भास्कर की पूजा अर्चना के लिए पहुंचे। लेकिन विश्राम ग्रह के अभाव में आने वाले विशिष्ट जनों को यहां से तुरंत रवानगी डालनी पड़ती है। सूर्य मंदिर के लिए मुन्ना महाराज की कुटी होते हुए वायपास रोड व सुरम्य प्राकृतिक वातावरण के बीच पहूज नदी के किनारे विश्रामगृह का निर्माण कर दिया जाए, श्रद्धालुओं को सुविधा मिल सकती है। इससे इनकी संख्या में भी इजाफा होगा। स्थानीय राजकुमार पंडा बताते है कि उनाव बालाजी कस्बा समूचे देश में धार्मिक महत्व के सूर्य मन्दिर के लिए विख्यात है। यहां मध्यप्रदेश के साथ साथ उत्तरप्रदेश के वीआईपी भी आते जाते रहते हैं। लेकिन रुकने व ठहरने के प्रबंध न होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके बाद भी न तो जनप्रतिनिधियों को चिंता है न ही अफसरों को।

X
Unnav News - mp news there is no arrangement for devotees to stay at the temple
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन