• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Datia
  • Datia - बच्चों ने पहले सीखा, फिर कहा- हम मिट्‌टी की मूर्ति का करेंगे पूजन
--Advertisement--

बच्चों ने पहले सीखा, फिर कहा- हम मिट्‌टी की मूर्ति का करेंगे पूजन

जन शिक्षण संस्थान द्वारा बुधवार को झांसी रोड स्थित रास जेबी स्कूल परिसर में गणेश जी निर्माण कार्यक्रम का आयोजन...

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2018, 02:30 AM IST
Datia - बच्चों ने पहले सीखा, फिर कहा- हम मिट्‌टी की मूर्ति का करेंगे पूजन
जन शिक्षण संस्थान द्वारा बुधवार को झांसी रोड स्थित रास जेबी स्कूल परिसर में गणेश जी निर्माण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान स्कूल के बच्चों को मूर्तिकार राजेश बुलकिया द्वारा मिट्‌टी से गणेश प्रतिमा बनाना सिखाया। जब गणेश जी बनकर तैयार हो गए तो बच्चों ने एक स्वर में कहा कि हम भी गुरुवार को गणेश चतुर्थी पर्व पर अपने घर में मिट्‌टी के गणेश बनाएंगे और मिट्‌टी के गणेश जी का ही पूजन करेंगे। संस्थान निदेशक निधि तिवारी ने बताया कि मिट्टी के गणेश जी बनाएं एवं पूजन के बाद उनको घर में ही विसर्जित करें। जल प्रदूषित रोकने का संदेश देते हुए कहा कि इस तरह की आस्था से जल को प्रदर्शित होने से बचाया जा सकता है। कार्यक्रम में रास जेबी स्कूल संचालक राजेश मोर समेत तकरीबन एक सैकड़ा छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

यहां मिल रहीं मिट्‌टी की मूर्तियां

गणेश चतुर्थी पर मिट्टी के गणेश की प्रतिमाएं मंगलवार से ही बाजार में पहुंच गई हैं। बुधवार को शहर के ह्रदय स्थल किलाचौक, टाउनहॉल, पटवा तिराहा, विहारी जी मंदिर पर बुलकिया परिवार के घरों के बाहर, गांगोटिया मंदिर, राजगढ़ फाटक के पास, बम बम महादेव, बस स्टैंड, टेलीफोन कॉलोनी, मंगल ढाबा के पीछे, हाइवे पुल के नीचे आपको कुंभकारों द्वारा बनाई गई मिट्‌टी के गणेश प्रतिमाएं आसानी से मिल जाएंगीं। बाजार में मिलने वाले मिट्‌टी के गणेश की कीमत 10 रुपए से 100 रुपए तक बताई गई है।

गणेश चतुर्थी आज

रास जेबी स्कूल के बच्चों ने सीखा मिट्टी के गणेश प्रतिमा बनाना, कहा- घर पर बनाएंगे मूर्ति, विसर्जन भी घर पर ही करेंगे

मिट्‌टी के गणेश बनाना सिखाते राजेश बुलकिया।

भास्कर संवाददाता | दतिया

जन शिक्षण संस्थान द्वारा बुधवार को झांसी रोड स्थित रास जेबी स्कूल परिसर में गणेश जी निर्माण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान स्कूल के बच्चों को मूर्तिकार राजेश बुलकिया द्वारा मिट्‌टी से गणेश प्रतिमा बनाना सिखाया। जब गणेश जी बनकर तैयार हो गए तो बच्चों ने एक स्वर में कहा कि हम भी गुरुवार को गणेश चतुर्थी पर्व पर अपने घर में मिट्‌टी के गणेश बनाएंगे और मिट्‌टी के गणेश जी का ही पूजन करेंगे। संस्थान निदेशक निधि तिवारी ने बताया कि मिट्टी के गणेश जी बनाएं एवं पूजन के बाद उनको घर में ही विसर्जित करें। जल प्रदूषित रोकने का संदेश देते हुए कहा कि इस तरह की आस्था से जल को प्रदर्शित होने से बचाया जा सकता है। कार्यक्रम में रास जेबी स्कूल संचालक राजेश मोर समेत तकरीबन एक सैकड़ा छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

यहां मिल रहीं मिट्‌टी की मूर्तियां

गणेश चतुर्थी पर मिट्टी के गणेश की प्रतिमाएं मंगलवार से ही बाजार में पहुंच गई हैं। बुधवार को शहर के ह्रदय स्थल किलाचौक, टाउनहॉल, पटवा तिराहा, विहारी जी मंदिर पर बुलकिया परिवार के घरों के बाहर, गांगोटिया मंदिर, राजगढ़ फाटक के पास, बम बम महादेव, बस स्टैंड, टेलीफोन कॉलोनी, मंगल ढाबा के पीछे, हाइवे पुल के नीचे आपको कुंभकारों द्वारा बनाई गई मिट्‌टी के गणेश प्रतिमाएं आसानी से मिल जाएंगीं। बाजार में मिलने वाले मिट्‌टी के गणेश की कीमत 10 रुपए से 100 रुपए तक बताई गई है।

सबसे पहले भगवान की चौकी बनाएं

मूर्तिकार बुलकिया ने सर्वप्रथम मिट्‌टी को गलाया फिर हाथों से पीसा। उन्होंने बच्चों को बताया कि मिट्टी को मोड़ने पर या आकृति देने पर चटकना नहीं चाहिए। इसके लिए मिट्टी के मिश्रण में गले व कूटे हुए अखबार व गोंद को पानी में घोलकर मिट्टी में मिलाना चाहिए। सबसे पहले बैठने की चौकी बनाएं। फिर पेट और सीने को आकृति दें। इसके बाद पैर और हाथ की आकृति देकर चाकू और पाउडर की सहायता से उंगलियों की आकृति दें। सिर की आकृति देने के बाद कानों का आकार बनाएं। फिर सूंड और दांतों की आकृति बनाए। अंत में मुकुट की आकृति बनाएं और फिर बने हुए गणेश जी का वाहन चूहा बनाकर वस्त्र का डिजाइन दें। इससे गणेश जी की प्रतिमा सुंदर और भव्य बनकर तैयार होगी।

X
Datia - बच्चों ने पहले सीखा, फिर कहा- हम मिट्‌टी की मूर्ति का करेंगे पूजन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..