15 दिन जंगलों को खंगाला... आदिवासी जैसे दिखने के लिए बढ़ाई दाड़ी-मूछंे, तब पकड़ाए जैन तीर्थ में डकैती डालने वाले

Dewas News - भास्कर संवाददाता | देवास/बागली जैन तीर्थ शिवपुर मातमोर में डेढ़ महीने पहले डकैती करने वाले चार बदमाशों को पुलिस...

Bhaskar News Network

Oct 18, 2019, 06:26 AM IST
Bagli News - mp news 15 days reconstructed the forests to look like tribal bearded mustache then caught the robber in jain pilgrimage
भास्कर संवाददाता | देवास/बागली

जैन तीर्थ शिवपुर मातमोर में डेढ़ महीने पहले डकैती करने वाले चार बदमाशों को पुलिस ने पकड़ लिया है। तीन आरोपी अभी भी फरार है। आरोपी धार जिले के बाग क्षेत्र के रहने वाले हैं। इनसे सामान और नकद रुपए जब्त किए हैं। आरोपियों ने हाटपिपल्या में दिलीप सोनी और उदयनगर में जीवनसिंह दांगी के घर में चोरी भी कबूल की है। इन्होंने सतवास बैंक में चोरी करने का प्रयास किया था। आरोपियों को पकड़ने में पुलिसकर्मी कीटनाशक कंपनी के कर्मचारी बन कर 15 दिन धार जिले के जंगल में घूमे, उन्होंने दाड़ी मूछंे बढ़ाई, तब जाकर बदमाश पकड़ में आ पाए।

गुरुवार को प्रेसवार्ता में एसपी चंद्रशेखर सोलंकी ने बताया- आरोपी मजदूरी करने के बहाने रैकी करते थे। सीसीटीवी फुटेज से मदद मिली। विष्णु पिता जुवानिसंह निवासी बोरी थाना बागली को पूछताछ के लिए उठाया तो सामने आया कि बरखेड़ा गांव में उसके रिश्ते का मामा जुवारसिंह पिता केकड़िया अनारे व काटी का परम पिता नरवर की गैंग ने वारदात की। टीम बाग व टांडा क्षेत्र में गई, जहां पता चला जुवार व परम की गैंग दारू, मुर्गा, बकरा पार्टी कर पैसा खर्च कर रहे हैं। इनका साथी आरोपी दयासिंह पिता मंगू निवासी काटी, मुकेश पिता बिशनसिंह वसुनिया निवासी रणजीतगढ़ जोबट, जयकिशन पिता धड़कसिंह निवासी पीपरी भी वारदात में शामिल है। जिन्हें गिरफ्तार किया और इनसे सोना, चांदी जेवर, 10 लाख से अधिक कीमत के जब्त किए।

सावन सोमवार पर आकर की थी मंदिर की रैकी

घटना से पहले जुवार व विष्णु ने सावन सोमवार को मातमोर मंदिर की रैकी की थी, उसके बाद वारदात को अंजाम दिया। आरोपी तत्काल सामान नहीं ले जा सके, इसलिए विष्णु को दिए थे। अगले दिन आरोपी दयासिंह व उसके साले सोरभसिंह के साथ सामान ले गए। जुवारसिंह ने विष्णु की मदद साथी जयकिशन, परम, मुकेश के साथ हाटपिपल्या व उदयनगर में घर में चोरी की थी। तीनों घटनाआें में जुवारसिंह की कार (एमपी 09 सीक्यू 7956) का उपयोग किया गया, जिसे जयकिशन चलाकर लाता था। पुलिस ने आरोपी जुवारसिंह, विष्णु भील, जयकिशन निवासी पीपरी चौकी डेहरी बाग, सौरभसिंह निवासी सनावदिया थाना खुड़ैल को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी दयासिंह निवासी सनावदिया, मुकेश वसुनिया निवासी जोबट व परम निवासी काटी फरार है।

बीमार होने पर धार जिला अस्पताल में भर्ती भी रहे पुलिसकर्मी

एसपी को जब्त हुए जेवरातों की पहचान करती एक श्रद्धालु।

पुलिस ने 13 लोगों की टीम बनाई थी। इनमें चार आरक्षक महेश सिसोदिया, अर्पित जायसवाल, रमन व करणसिंह ने मूछंे, दाड़ी बढ़ाकर सिर पर फेटा बांध कर आदिवासियों का वेश बनाया। टीम के देवेंद्र, मनोज पटेल, यशवंत व जितेंद्र गोस्वामी एक मैजिक में बैठकर गांव-गांव खेतों में डालने वाली कीटनाशनक दवाई का प्रचार करते रहते थे, जिससे कि कोई पुलिस वाला नहीं समझे। प्रतिदिन 5 से 10 किमी तक जंगल व पहाड़ी पर पैदल चलते थे। इस दौरान मनोज पटेल व जितेंद्र गोस्वामी बीमार हो गए, जिनका धार के जिला अस्पताल में तीन दिन इलाज चला। एसपी सोलंकी 24 घंटे टीम के संपर्क में रहे। बागली टीआई अमित सोनी, हाटपिपल्या टीआई मुकेश ईजारदार अन्य हौसला बढ़ाते रहे।

तीन बार सरपंच रह चुके आरोपी के परिवार के सदस्य : आरोपी जुवार के परिवार के सदस्य 3 बार सरपंच रह चुके हैं, जिला पंचायत सदस्य भी रहे हैं। आरोपी परमसिंह ने सरदारपुर में 55 लाख की लूट, गंधवानी में डेढ़ क्विंटल चांदी के साथ ही हैदराबाद, महाराष्ट्र में भी कई बार डकैती की, जिसमें फरार चल रहा है।

जुवारसिंह एएसपी के हाथ में काट कर छुड़ा चुका है रायफल : मुख्य आरोपी जुवारसिंह ने उज्जैन में एएसपी रहे गौरव तिवारी के हाथ में काटकर उनकी रायफल छुड़ा ली थी और भाग गया था, जिसे बाद में गिरफ्तार कर लिया था। आरोपी के खिलाफ 12 डकैती के अपराध दर्ज हैं।

X
Bagli News - mp news 15 days reconstructed the forests to look like tribal bearded mustache then caught the robber in jain pilgrimage
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना