अधिक बारिश का उत्पादन पर असर...

Dewas News - क्षेत्र में हुई ज्यादा बारिश से सोयाबीन उत्पादन काफी कम हुआ है। इससे किसानों के सामने रबी बोवनी का संकट खड़ा हो गया...

Bhaskar News Network

Oct 19, 2019, 07:05 AM IST
Chapda News - mp news more rain affects production
क्षेत्र में हुई ज्यादा बारिश से सोयाबीन उत्पादन काफी कम हुआ है। इससे किसानों के सामने रबी बोवनी का संकट खड़ा हो गया है। पिछले साल एक बीघा में 4 क्विंटल तक उत्पादन हुआ था, लेकिन इस बार मात्र 2 क्विंटल ही हुआ है। कई किसानों को लागत भी नहीं निकली है। साथ ही कई किसानों ने तो जितना बीज बोया था वह भी नहीं निकल पाया है।

इस बार बोवनी के समय बारिश की लंबी खेंच से फसल सूखने की कगार पर आ गई थी। इसके बाद जैसे-तैसे फसल उगी और फल आने का समय हुआ तो मौसम के कारण अफलन की समस्या हो गई। जब फसल पककर तैयार हो गई तो 20 दिन तक लगातार बारिश हुई। इसके कारण फसल खेतों में ही सड़ गई। बची हुई फसल कटाई का समय आया तो मजदूरी बढ़ गई। पानी नहीं गिरने से पहले जो सोयाबीन कटाई की जो मजदूरी प्रति बीघा 1050 रुपए तो वह पानी गिरने के कारण बढ़कर 1400 रुपए बीघा देना पड़ी। मशीन में सोयाबीन निकलाई के लिए प्रति बोरा 125 रुपए की जगह 200 रुपए देने पड़ रहे हैं। किसान गोवर्धनलाल पाटीदार ने बताया खेतों में कटी फसल लगातार पानी गिरने के कारण सड़ गई है। इसके चलते आने वाली बोवनी में अच्छा बीज नहीं मिल पाएगा। इस बार एक बीघा में 50 से लेकर 2 क्विंटल तक सोयाबीन की पैदावार हो रही है। जबकि पिछले साल तीन से लेकर 4 क्विंटल प्रति बीघा पैदावार हुई थी।

एक एकड़ में लागत 9900 रुपए और बचत मात्र 2100 : करोंदिया के किसान मोहन सैंगवा ने बताया एक एकड़ में सोयाबीन का बीज 2000 रुपए, ट्रैक्टर से बोवनी एवं बखराई का 1000 रुपए, खरपतवारनाशक के लिए 1500 रुपए, खाद 1000 रुपए, कटाई व एकत्रित करने के 2800 रुपए, मशीन से निकलाई 800 रुपए, मंडी में बेचने ले जाने का खर्च 800 रुपए सहित कुल लागत 9900 रुपए आई। इधर, पैदावार मात्र 4 क्विंटल हुई। 3000 रुपए प्रति क्विंटल के भाव से 4 क्विंटल सोयाबीन के 12000 रुपए मिले। यानि एक एकड़ में शुद्ध बचत मात्र 2100 रुपए हुई। इसमें भी घर वालों ने जो काम किया वह अलग ही है।

पिछले साल एक बीघा में 4 क्विंटल हुई थी सोयाबीन, इस बार मात्र 2 क्विंटल

मशीन से सोयाबीन निकालते किसान।

सोयाबीन कटाई ही महंगी पड़ रही है

पालखा के किसान देवनारायण यादव ने बताया इस बार प्रति बीघा मात्र 1 से डेढ़ क्विंटल तक ही पैदावार हो रही है। करोंदिया के किसान जगदीश जाट ने बताया इस बार मेरे खेत में 8 बीघा में मात्र साढ़े 4 क्विंटल सोयाबीन हुए हैं। जबकि पिछली बार 32 क्विंटल पैदावार हुई थी। आगुर्ली के किसान रतनसिंह सैंधव ने बताया इस बार तो सोयाबीन कटाई ही महंगी पड़ रही है। इसी तरह क्षेत्र के गांव भमोरी, इकलेरा, गुराड़ियाकलां, अमरपुरा, मातमोर, मोखापिपल्या, अवल्दी, खेड़ा, बेड़ामऊ, बामनखेड़ी, पोलाय, कांजर, बिज्जूखेड़ा, गुनेरा आदि गांवाें में भी सोयाबीन की पैदावार काफी कम हुई है।

X
Chapda News - mp news more rain affects production
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना