मुनिश्री चिन्मय सागरजी का जुगुल में हुआ संल्लेखना पूर्वक समाधिमरण

Dewas News - भास्कर न्यूज . खातेगांव (देवास). आचार्यश्री विद्यासागरजी के शिष्य मुनिश्री चिन्मयसागरजी महाराज का संल्लेखना...

Bhaskar News Network

Oct 19, 2019, 08:25 AM IST
Khategaon News - mp news munishree chinmay sagarji39s codification in jugul
भास्कर न्यूज . खातेगांव (देवास). आचार्यश्री विद्यासागरजी के शिष्य मुनिश्री चिन्मयसागरजी महाराज का संल्लेखना पूर्वक समाधिमरण शुक्रवार शाम सवा 6 बजे जुगुल (कर्नाटक) में हो गया। गृहस्थ अवस्था में मुनिश्री जुगुल में ही रहे और यहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। मुनिश्री ने कुछ दिनों पहले यम संल्लेखना लेकर अन्न-जल का त्याग कर दिया था। मुनिश्री के अधिकांश चातुर्मास अलग-अलग प्रदेशों के जंगलों में हुए, जहां उन्होंने अपनी कठोर साधना की और हजारों लोगों (ज्यादातर आदिवासी समाज के) को मांस-मदिरा का त्याग कराया। इसलिए उनकी ख्याति जंगल वाले बाबा के नाम से हुई। शेष |पेज 12 पर

X
Khategaon News - mp news munishree chinmay sagarji39s codification in jugul
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना