--Advertisement--

30 एमएम चढ़ाया डामर, दबाई नहीं होने से वाहनों के गुजरने पर उखड़ रही सड़क

गंधवानी से बलवारी तक 9 किमी सड़क की मरम्मत का काम चल रहा है। यह सड़क पहले लोक निमार्ण विभाग के पास थी जो अब एमपीआरडीसी...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:15 AM IST
गंधवानी से बलवारी तक 9 किमी सड़क की मरम्मत का काम चल रहा है। यह सड़क पहले लोक निमार्ण विभाग के पास थी जो अब एमपीआरडीसी के अधीन है। 87 लाख की लागत से विभाग द्वारा सड़क की मरम्मत करवाई जा रही है। ठेकेदार बिना सड़क की साइड मिलाए 30 एमएम तक ही डामर चढ़ा रहा है। सड़क पर डामर चढ़ाने के बाद रोलर से दबाई भी नहीं कराई जा रही है। जिस कारण भारी वाहनों के गुजरने से सड़क उखड़ने भी लगी है। वहीं वाहन भी लहराते हुए निकलते है। जिससे हादसे की आशंका बनी हुई है। जिस हिसाब से मरम्मत का काम हो रहा है उसकी गुणवत्ता पर भी सवाल उठने लगे है।

कई समय से जर्जर सड़क की मरम्मत का काम शुरू होने से लोगों को राहत थी, लेकिन यहां एमपीआरडीसी विभाग के अधिकारियों की मॉनिटरिंग नहीं हाेने से काम गुणवत्ता का नहीं होे रहा। सड़क शीघ्र ही उखड़ जाएगी। सड़क की मरम्मत सुनील कुमार मदनलाल ठेकेदार के द्वारा की जा रही है। जिस जगह डामर चढ़ाया है वहां चलताऊ काम किया गया है। कई जगह साइड पटरी तक भी डामर चढ़ा दिया है तो कही सड़क व पटरी के कोने नहीं मिलाए है। सड़क का लेवल भी नहीं मिलाया है।

गंधवानी.इस तरह सड़क पर बिछा दिया डामर।

हनुमानजी का मंदिर होने से आवागमन लगा रहता है

मार्ग पर यातायात का दबाव अधिक रहता है। साथ ही सिद्ध क्षेत्र बलवारी हनुमानजी का मंदिर होने से सैकड़ों वाहनों का आवागमन लगा रहता है। ठेकेदार भी तेजी से काम पूरा करने में लगा है। मामले में ठेकेदार तीन साल की ग्यारंटी होने की बात कह रहा है। वहीं विभाग के सब इंजीनियर दिनेश पाटीदार ने मामले को दिखवाने की बात कही।

इधर..10.69 करोड़ रुपए की लागत से बनेगी धामनोद से सुंद्रैल की सड़क

मांडू | धामनोद से सुंद्रैल होकर जाने वाली डामर सड़क को स्वीकृति मिल गई है। 9 किमी की सड़क 10.69 करोड़ की लागत से प्रधानमंत्री सड़क योजना फेज 2 के तहत बनेगी। सड़क के साथ दो ब्रिज भी बनेंगे। विधायक कालूसिंह ठाकुर ने बताया धामनोद से सुंद्रैल के साथ रुपट्टा से पेड़वी तक की सड़क चार करोड़ की लागत से बनेगी। इसके लिए विभाग से स्वीकृति मिल गई है। सड़क 17 फीट चौड़ी बनेगी। गौरतलब है कि धामनोद-सुद्रैल मार्ग काफी जर्जर होने होने से आए दिन हादसे होते है। साथ ही इसके लिए ग्रामीणों ने कई बार धरना प्रदर्शन भी किया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..