Hindi News »Madhya Pradesh »Dhar» वोटर लिस्ट के 48 हजार पन्नों में से 42 हजार पर भाजपा कार्यकर्ता थे, हर बूथ पर 10 युवा थे

वोटर लिस्ट के 48 हजार पन्नों में से 42 हजार पर भाजपा कार्यकर्ता थे, हर बूथ पर 10 युवा थे

‘नरेंद्र मोदी जी कांग्रेस मुक्त भारत कर रहे हैं, लेकिन हम आपको कम्युनिस्ट मुक्त भारत का दायित्व देते हैं।’ ये बात...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 02:05 AM IST

वोटर लिस्ट के 48 हजार पन्नों में से 42 हजार पर भाजपा कार्यकर्ता थे, हर बूथ पर 10 युवा थे
‘नरेंद्र मोदी जी कांग्रेस मुक्त भारत कर रहे हैं, लेकिन हम आपको कम्युनिस्ट मुक्त भारत का दायित्व देते हैं।’ ये बात सुनील देवधर को त्रिपुरा का प्रभारी बनाते वक्त नवंबर 2014 में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कही थी तो उस वक्त वे बेहद सहज नहीं थे। पर 600 दिनों से त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में किराए के मकान में रहकर पार्टी की रणनीति को अंजाम देने वाले देवधर को अब शाह की साढ़े तीन साल पुरानी टिप्पणी का मर्म समझ आ रहा है।

भाजपा में त्रिपुरा की जीत से ज्यादा उत्साह इस बात को लेकर है कि यह वामपंथी विचारधारा पर दक्षिणपंथी विचारधारा की जीत है। ऐसा पहली बार हुआ है कि भाजपा ने किसी वामपंथी गढ़ में जीत हासिल की है। दरअसल, भाजपा की इस जीत के पीछे मजबूत काडर खड़ा करने की रणनीति रही। भाजपा ने 2014 में त्रिपुरा में पहले मंडल स्तर पर मोर्चों का गठन किया, फिर बूथ कमेटियों का गठन शुरू हुआ। राज्य के 3214 बूथों पर यूपी जैसी रणनीति अपनाई। हर बूथ पर भाजपा ने ‘वन बूथ-टेन यूथ’ का फॉर्मूला अपनाया। साथ ही हर बूथ पर 10-10 महिलाएं, एससी, एसटी, ओबीसी, अल्पसंख्यक और किसानों को भी जोड़ा। 2700 बूथों पर 10-10 महिलाओं की टीम तैयार की। इसके अलावा, त्रिपुरा वोटर लिस्ट के कुल 48000 पन्नों में से 42,000 पन्नों पर कार्यकर्ता तैनात किए। यानी एक पेज के 60 वोटर पर एक भाजपा कार्यकर्ता तैनात था। जिसकी ड्यूटी एक पखवाड़े में दो बार सभी वोटर से मिलकर तीन बिंदुओं पर बात करना था। इसी तरह त्रिपुरा में भाजपा ने क्षेत्रीय दल आईपीएफटी से गठबंधन कर 20 आरक्षित आदिवासी सीटों पर कब्जा किया।

लाल दुर्ग में भगवा होली...

यूपी फॉर्मूला: शाह ने पहले बिप्लव देब को प्रदेश अध्यक्ष बनाया, फिर देवधर को भेजा

अध्यक्ष शाह ने त्रिपुरा में सबसे पहले राज्य के युवा नेता बिप्लव देब को प्रदेश की कमान सौंपी, जो कभी सांसद गणेश सिंह के पीए थे। उसके बाद संगठन से जुड़े और मोदी के वाराणसी संसदीय सीट के प्रभारी रहे सुनील देवधर को त्रिपुरा का प्रभारी बनाया। फिर अमित शाह ने यूपी चुनाव की तर्ज पर त्रिपुरा में भी बूथ और पन्ना प्रमुख की रणनीति को कारगर ढंग से लागू कराया।

त्रिपुरा 7वां गैर हिंदी राज्य, जहां भाजपा सीएम

त्रिपुरा | 50% भाजपा प्रत्याशी 5 साल में पार्टी सदस्य बने हैं

त्रिपुरा में भाजपा के 50% उम्मीदवारों ने पिछले 5 साल में भाजपा की सदस्यता हासिल की है।

भाजपा के 52 केंद्रीय मंत्रियों और 200 से ज्यादा सांसदों और नेताओं ने राज्य में चुनावी रैलियां कीं।

पीएम मोदी ने राज्य में 4 चुनावी रैलियां कीं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 6 रात गुजारी।

त्रिपुरा में सीएम योगी आदित्यनाथ ने जिन 7 जगहों पर सभाओं को संबोधित किया था, 4 रोड शो किए थे, उनमें से 7 स्थानों पर जीत मिली।

योगी ने दो दिन प्रचार किया था। इसकी बड़ी वजह नाथ संप्रदाय की बड़ी आबादी होना था।

मेघालय | भाजपा को यहां बीफ व चर्च के मुद्दे से नुकसान हुआ

कांग्रेस ने अपने रणनीतिकार अहमद पटेल, मुकुल वासनिक को मेघालय भेजा। ताकि वे छोटे दलों के साथ मिलकर सरकार बना सके। राज्य में 10 साल से कांग्रेस की सरकार है।

मेघालय में भाजपा 2013 में 13 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, सभी सीटों पर उसकी जमानत जब्त हो गई। यहां उसे 20 साल बाद 2 सीटे मिलीं हैं।

राज्य में करीब 75% वोटर ईसाई हैं, इसलिए कांग्रेस ने भाजपा को बीफ और चर्च के मुद्दे को लेकर लगातार घेरा। इसका भाजपा को काफी नुकसान भी हुआ।

सबसे बड़ा चेहरा: देवधर ने वाम मोर्चा के बूथ काडर की कमजोरी को बड़ा हथियार बनाया

त्रिपुरा प्रभारी सुनील देवधर भास्कर से बातचीत में कहते हैं कि वाम काडर कोई मामूली काडर नहीं है। पर उसकी एक कमजोरी है कि सत्ता में आते ही प्रशासन का राजनीतिकरण और राजनीति का अपराधीकरण में लग जाता है। जिससे बूथ स्तर का काडर भी पार्टी पर निर्भर हो जाता है और सरकार की योजना में लाभ उठाने लगता है। इसी वजह से बंगाल में वाम काडर खत्म हो गया।

नगालैंड |कांग्रेस का पिछली बार से 22% वोट कम हो गया

भाजपा ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा, 11 पर जीत हासिल की, यह अब तक सबसे बेहतर प्रदर्शन है।

राज्य के तीन बार सीएम रहे एनडीपीपी प्रमुख नेफ्यू रियो पहले ही उत्तर अंगामी-2 से निर्विरोध चुने गए हैं। उन्हें अगले सीएम के तौर पर भी देखा जा रहा है।

नगालैंड में कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला है। कांग्रेस 18 सीटों पर चुनाव लड़ रही थी।

कांग्रेस को राज्य में महज 2.1% वोट मिले। पिछली बार उसे 8 सीटें और 24.89% वोट मिला था।

कांग्रेस के स्थानीय नेता इस हार के लिए राज्य के प्रभारी सीपी जोशी को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

विपक्ष में बिखराव: हेमंत शर्मा और त्रिपुरा कांग्रेस अध्यक्ष देबबर्मा की मुलाकात अहम

भाजपा की इस जीत में विपक्ष का बिखराव भी खास है। सबसे अहम फैक्टर भाजपा नेता हेमंत बिश्व सरमा का कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रद्योत बिक्रम माणिक्य देब बर्मा से चुनाव के दौरान हुई मुलाकात थी। सूत्रों के मुताबिक त्रिपुरा रॉयल फैमिली से जुड़े देब बर्मा की भाजपा से डील हो गई। इसी वजह से भाजपा आदिवासी प्रभाव वाली सभी 20 सीटें जीतने में सफल रही।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Dhar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: वोटर लिस्ट के 48 हजार पन्नों में से 42 हजार पर भाजपा कार्यकर्ता थे, हर बूथ पर 10 युवा थे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Dhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×