• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Dhar News
  • 3 महीने पहले बढ़ चुका संपत्ति व जल कर, बजट में होगा करवृद्धि न करने का दिखावा
--Advertisement--

3 महीने पहले बढ़ चुका संपत्ति व जल कर, बजट में होगा करवृद्धि न करने का दिखावा

नगरपालिका का बजट बनना शुरू हो गया है। इसी महीने में नपा का बजट सम्मेलन बुलाया जाएगा। जनता के सामने कोई करवृद्धि...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:05 AM IST
नगरपालिका का बजट बनना शुरू हो गया है। इसी महीने में नपा का बजट सम्मेलन बुलाया जाएगा। जनता के सामने कोई करवृद्धि नहीं करने का दिखावा किया जाएगा। जबकि प्रशासक कार्यकाल रहते दिसंबर में ही जलकर और संपत्ति दोनों में ही बढ़ोत्तरी की जा चुकी है। जलकर में 25 प्रतिशत सीधी वृद्धि की है तो संपत्ति कर में आवासीय मकानों पर आंशिक और व्यावसायिक मकानों पर वार्षिक भाड़ा और कर दोनों में वृद्धि कर लगभग 50 प्रतिशत तक बढ़ोत्तरी कर दी है। इसलिए बजट सम्मेलन में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर यह दिखाने की कोशिश की जाएगी कि करवृद्धि न कर जनता पर कोई अतिरिक्त बोझ नहीं डाल रहे हैं। सूत्रों के अनुसार बजट सम्मेलन के एजेंडे में जलकर में और वृद्धि करने का प्रस्ताव लाया जा सकता है लेकिन यह पूरी तरह से पिछले साल के बजट सम्मेलन की तरह पूर्व निर्धारित होगा, जिसमें पार्षद दिलावरा का पानी हर घर तक नहीं पहुंचने तक जलकर में बढ़ोत्तरी करने का विरोध कर प्रस्ताव को खारिज करेंगे।

विरोधाभास : दो साल में जमीनों के भाव नहीं बढ़े पर लगातार बढ़ रहा संपत्तिकर

रियल स्टेट मार्केट में मंदी के चलते पिछले दो साल में शहर में जमीनों की कीमतें न के बराबर बढ़ी हैं। 20 वार्डों में जमीनों की गाइडलाइन जस की तस हैं। इस साल भी शहर के कुछ हिस्सों को छोड़ कर ज्यादातर इलाकों में जमीनों की गाइडलाइन बढ़ाने का प्रस्ताव नहीं है। यानी शहर में संपत्ति के भाव दो साल से लगभग स्थिर हैं।

इन्हीं दो साल में 1000 वर्ग फीट के भवन पर 414 रुपए बढ़ चुका है संपत्ति कर

नपा ने 2016 में संपत्ति कर में दो रुपए बता कर आवासीय मकानों पर 50 और व्यावसायिक मकानों पर 25 प्रतिशत संपत्ति कर बढ़ा दिया था। दिसंबर 2017 में प्रशासक कार्यकाल में फिर चुपके से बढ़ोत्तरी कर दी। 1000 वर्ग फीट के व्यावसायिक मकान पर दो साल में 414 संपत्ति कर बढ़ गया।

ऐसे समझें अपने संपत्ति कर की गणना

आपका आवासीय भवन 25 बाय 40 वर्ग फीट का है, झोन क्र. 1 में लगता है तो-




आपका व्यावसायिक भवन 25 बाय 40 वर्ग फीट का है, झोन 1 में लगता है तो-




इसलिए बढ़ गया संपत्ति कर का बोझ

वार्षिक भाड़े पर 10% की छूट का प्रावधान है। इसके बाद आने वाली कीमत पर संपत्ति कर जिस भी दर से लागू होता है, वह लगाई जाती है। दिसंबर 2017 के पहले तक आवासीय व व्यावसायिक मकानों पर इसी राशि पर कर लगता था। प्रशासक कार्यकाल में हुए संशोधन के बाद आवासीय पर आवासीय व व्यावसायिक दोनों प्रकार के मकानों पर वार्षिक भाड़ा बढ़ा दिया है। दिसंबर 2017 से आवासीय मकानों पर गणना किए गए संपत्ति कर की राशि पर सीधे 50% छूट लागू करने से बढ़ोत्तरी के बाद भी लगभग उतनी ही राशि संपत्ति कर की बन रही है। व्यावसायिक भवनों पर यह 50 प्रतिशत छूट लागू नहीं होने से इस तरह के भवनों पर संपत्ति कर ज्यादा बढ़ गया है।

200 करोड़ के सीवरेज प्रोजेक्ट की योजना

आगामी वित्तीय वर्ष के बजट में सबसे बड़ा प्रोजेक्ट सीवरेज का होगा। इसके लिए लगभग 200 करोड़ की योजना है। नपा के बजट सम्मेलन में ही इस प्रोजेक्ट की डीपीआर बनाने के लिए कंसल्टेंट नियुक्त करने का प्रस्ताव रखा जा सकता है।

इसी महीने बुलाएंगे सम्मेलन


बोझ न बढ़े यह कोशिश रहेगी