धार

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Dhar News
  • पाइपलाइन फूटने से 50 हजार लीटर से अधिक बहा पानी, 20 मिनट सप्लाय कम
--Advertisement--

पाइपलाइन फूटने से 50 हजार लीटर से अधिक बहा पानी, 20 मिनट सप्लाय कम

मालीपुरा तालाब से मांडू की मुख्य पेयजल टंकी को भरने वाली पाइपलाइन के फूटने से 50 हजार लीटर से अधिक पानी बह गया। नपं...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:25 AM IST
मालीपुरा तालाब से मांडू की मुख्य पेयजल टंकी को भरने वाली पाइपलाइन के फूटने से 50 हजार लीटर से अधिक पानी बह गया। नपं के अधिकारियों की अनदेखी के कारण मंगलवार देर शाम को फूटी पाइप लाइन से बुधवार दोपहर 12 बजे तक पानी बहता रहा। टंकी में पानी नहीं होने के कारण वार्ड 3 व 4 में एक घंटे की जगह 40 मिनट ही पानी वितरित हुआ। इधर तालाब में भी पानी सूख चूका है। इसके कारण आगामी समय में यहां जलसंकट गहरा सकता है। मांडू नगर में वार्ड 1 से लेकर वार्ड 5 तक ही एक दिन छोड़कर नल से पानी दिया जाता है। कुल 15 वार्ड हैं जहां पाइपलाइन नहीं हाेने से वहां के रहवासी कुएं, बावड़ियों से पानी लेते हैं।

दरअसल नगर में पेयजल के लिए नगर से पांच किमी दूर मालीपुरा तालाब से नगर में पानी आता है। जहां मंगलवार देर शाम वार्ड 1 में किराना दुकान के सामने पाइपलाइन फूट गई। बुधवार दोपहर 12 बजे तक पानी बहता रहा। करीब 50 हजार लीटर से अधिक पानी बह गया। बुधवार को नगर के वार्ड क्र. 3 व 4 में जल सप्लाय किया गया। लेकिन टंकी में पानी कम आने के कारण एक घंटे की बजाय 40 मिनट की पानी बंटा। इन वार्डों की आबादी 1500 से अधिक है। लोगों को कम पानी मिला। आसपास के लोग जिस जगह पाइपलाइन फूटी थी वहीं से पानी ले जाते हुए दिखे। नगर में पेयजल के लिए आरक्षित सागर तालाब से सिंचाई के लिए पानी चोरी कर लेने से वहां भी पानी कम है। नपं के अधिकारियों की लापरवाही से लोग परेशान हो रहे हैं।

वार्ड 3 व 4 में एक घंटे की जगह 40 मिनट ही बंटा पानी

मांडू. पाइप लाइन फूटने से दोपहर 12 बजे तक पानी बहता रहा।

आज वार्ड एक व दो में होना है जल सप्लाय

नगर के वार्ड एक व दो में आज पानी का सप्लाय होना है। फूटी पेयजल लाइन का सुधार कार्य शुरू होने के बाद देर रात को सुधार किया गया। हालांकि अभी सप्लाय शुरू कर टेस्टिंग की जाएगी। पाइपलाइन वर्षाें पुरानी होने से फूटी है।

भविष्य में ऐसी स्थिति नहीं बने इसके लिए निर्देश दिए हैं

नगर पंचायत सीएमओ रामप्रसाद भावरे का कहना है पाइपलाइन फूटने का मामला संज्ञान में आते ही सप्लाय बंद करवाया। मैकेनिक को बुलाकर लाइन सुधरवाई जा रही है। लाइन कैसे फूटी है इसकी भी जांच कर रहे हैं। कर्मचारियों को भी सख्त निर्देश दिए हैं कि वे कार्य में लापरवाही नहीं बरतें। पूर्व में भी अगर यहां जलसंकट की स्थिति बनी है तो ऐसी स्थिति नहीं बने इसके लिए पेयजल योजना के कर्मचारी को सख्त निर्देश दिए हैं।

X
Click to listen..