--Advertisement--

देश के 23 आईआईटी में से 22 में 34 फीसदी टीचर्स के पद खाली

देश के शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थान टीचर्स की कमी से जूझ रहे हैं। ये जानकारी मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:25 AM IST
देश के शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थान टीचर्स की कमी से जूझ रहे हैं। ये जानकारी मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट से सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक सभी 23 आईआईटी में टीचर्स के स्वीकृत पदों में करीब 34 फीसदी पद खाली हैं। रिक्तियां की ये स्थिति मार्च 2018 तक की है। सबसे ज्यादा पद आईआईटी गोवा में खाली हैं, जहां 62 फीसदी टीचर्स नहीं है। सबसे कम रिक्तियां आईआईटी बॉम्बे में 27 फीसदी हैं। इस बीच, हिमाचल का आईआईटी मंडी ही देश का एकमात्र ऐसा संस्थान है, जहां स्वीकृत पदों से अधिक टीचर्स हैं। इसके अलावा आईआईटी भिलाई में 58%, आईआईटी धारवाड़ में 47%, आईआईटी खड़गपुर में 46%, आईआईटी कानपुर में 36%, आईआईटी दिल्ली में 29% और आईआईटी चेन्नई में टीचर्स के 28% पद खाली हैं। इन इंजीनियरिंग संस्थानों में शिक्षक-विद्यार्थी अनुपात 1:10 होना चाहिए। जबकि अभी यह 1:16 है।