• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Dhar
  • सुबह हवन पूजन के बाद ध्वजा कलश के साथ भगवान की स्थापना की
--Advertisement--

सुबह हवन पूजन के बाद ध्वजा-कलश के साथ भगवान की स्थापना की

Dhar News - चमत्कारी हनुमान मंदिर नौगांव में हनुमान जन्मोत्सव के तहत सुबह कलश, ध्वजा स्थापना एवं पूर्णाहूति और भगवान की...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:25 AM IST
सुबह हवन पूजन के बाद ध्वजा-कलश के साथ भगवान की स्थापना की
चमत्कारी हनुमान मंदिर नौगांव में हनुमान जन्मोत्सव के तहत सुबह कलश, ध्वजा स्थापना एवं पूर्णाहूति और भगवान की स्थापना की गई। सुबह 7 बजे से हवन शुरू हुआ और पूर्णाहूति 1 बजे हुई। मंदिर में ध्वजा स्थापना और कलश की स्थापना की गई। सैकड़ों की संख्या में भक्त मौजूद थे। भगवान हनुमान का शृंगार किया गया। मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए सुबह से ही भक्तों का आना शुरू हुआ था। साथ ही हनुमानजी को 56 भोग लगाया। दोपहर 4 बजे से महाप्रसादी का आयोजन हुआ। हनुमान जन्मोत्सव के एक दिन पहले भजन संध्या का आयोजन किया गया।

राजोद| हनुमान मंदिरों में शुक्रवार रात से ही भजन कीर्तन के साथ सुंदरकांड, हनुमान चालीसा का पाठ हुआ। सुबह हवन-पूजन, अभिषेक हुआ। लड्डूओं का भोग लगाया। चोला चढ़ाकर आकर्षक श्रृंगार किया। पालना भैरवजी आश्रम पर पं. किशोरीलाल उपाध्याय ने सिद्ध हनुमान पर विधिपूर्वक पूजन किया।

खेड़ापति हनुमान, बालाजी हनुमान, पुर्णेश्वर हनुमान, रामबोला धाम स्थित वटेश्वर हनुमान पर महंत गणपतदास महाराज ने, साजोद के आनंदमंगल हनुमान पर पं. पुनीत द्विवेदी ने हवन करवाया। रानीखेडी के विश्वेश्वरी माताजी मंदिर स्थित दास हनुमान मंदिर पर सुंदरकांड मंडल के युवाओं ने हवन में आहुति डाली। रणछोड़ राय सहित नंदलई, आनंदखेड़ी, हनुमंत्या, खेरखेड़ा, गोंदीखेड़ा के मंदिरों भी पूजा अर्चना की गई। मंदिरों को फूलों की लड़ियों से सजाकर विद्युत साज सज्जा की गई। सुबह से मंदिरों में श्रद्धालुओं का ताता लगा रहा। चने चिरोंजी श्रीफल का प्रसाद चढ़ाया।

दूधी| हनुमान मंदिर में ब्रह्म मुहूर्त में ग्रामीणों ने चोला चढ़ाकर हनुमानजी की पूजा की। शिवराम ठाकुर परिवार ने हनुमानजी का पंचामृत से स्नान कराकर हवन पूजन कर भंडारा किया। गांव सहित आसपास के भक्तों ने प्रसादी ग्रहण की। जैतापुर तालाब स्थित मंदिर में भी अलसुबह से भक्तों का तांता लगा रहा। सेवादारों ने पूजन अर्चन कर भंडारा किया। मंदिर में गत एक वर्ष से प्रतिमाह भंडारा होता है। सुंदरकांड का पाठ भी किया। कुंदा फाटा स्थित चिंताहरण हनुमान मंदिर में भी हवन, पूजन व भंडारा हुआ।

धार. चमत्कारी हनुमान मंदिर नौगांव में हवन में आहूति देते यजमान।

बीच तालाब में पालकी लगाकर किया सुंदरकांड का पाठ

नालछा| नालछा के शिक्षक अशोक दायमा ने जीरापुर तालाब के बीच जाकर 2 घंटे तक सुंदरकांड का पाठ किया। वही शंख बजाकर आरती भी पढ़ी। एक हाथ में धार्मिक पुस्तक व दूसरे हाथ में शंख व ध्वज था। पिछले 15 वर्ष से दायमा मंगलवार-शनिवार को इसी तरह सुंदरकांड का पाठ करते है। यहां के अलावा वे नासिक, उज्जैन, द्वारका के गोमती घाट, सोमनाथ मंदिर के त्रिवेणी संगम, ओमकारेश्वर, खलघाट, महेश्वर में भी बीच पानी में जाकर सुंदरकांड का पाठ कर चूके है। वहीं नगर के सूरजकुंड हनुमान मंदिर, राम पालकी धाम हनुमान मंदिर, कड़कड़ हनुमान मंदिर, टेकरी वाले हनुमान और बावड़ी वाले हनुमान, सोमवारिया वाले हनुमान, पंचमुखी हनुमान मंदिर में सुबह से ही भगवान के दर्शनार्थ पहुंचे। चोला चढ़ाकर आकर्षक श्रृंगार किया। सुंदरकांड का पाठ, हनुमान चालीसा के साथ रामायण पाठ भी मंदिरों में पिछले 2 दिनों से चल रहे थे। मंदिरों में भंडारे भी हुए।

चोला चढ़ाकर शृगार, किया सुंदरकांड

खलघाट| गांव के प्रमुख मंदिरों में हनुमानजी को चोला चढ़ाकर विशेष शृगार किया। सुंदरकांड का पाठ व भजन कीर्तन हुए। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। भंडारे का भी आयोजन हुअा। समीप मोरगढ़ी में अजय बबन पाटीदार ने भंडारा करवाया।

आकर्षक शृंगार के साथ भंडारे का आयोजन

अमझेरा | हरदमलाला हनुमान मंदिर में भगवान का आकर्षक शृंगार किया। सार्वजनिक भंडारे का आयोजन किया। नगर के इंदिरा काॅलोनी, विद्युत मंडल स्थित हनुमान मंदिर आदि स्थानों पर भी हनुमान जयंती मनाई। भंडारे का आयोजन किया। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने दर्शन लाभ लेकर प्रसादी ग्रहण की।

रात्रि जागरण व अखंड रामायण का पाठ

बिड़वाल | नगर के हनुमान मंदिरों में रात्रि जागरण के साथ भजनों का आयोजन हुआ। जहां सुंदरकांड, अखंड रामायण का पाठ वरिष्ठ मानस मंडल, नवयुवक मानस मंडल, अपना रामायण मंडल, आदर्श रामायण मंडल की टीम ने किया। सुबह मुहूर्त में जन्मोत्सव मनाया। दर्शनार्थियों का ताता लगा रहा। सभी मंदिरों में चोला चढ़ाकर शृंगार किया। महाआरती कर प्रसादी बांटी।

मंदिर को फूलों से सजाया मंदिर रतजगा कर भजन-कीर्तन किए

रिंगनोद| मंदिरों में एक दिन पूर्व विद्युत सज्जा कर परिसर को फूलों से सजाया। रतजगा कर सुंदरकांड व भजन कीर्तन किए। बस स्टैंड स्थित संकटमोचन बालाजी मंदिर, खेड़ापति मंदिर में अभिषेक कर आरती उतारी। गढ़ी वाले हनुमान मंदिर में सुंदरकांड मंडल व गोमुख हनुमान मंदिर उंडेल में वनवासी हनुमान मंडल ने भगवान का श्रृंगार कर चोला चढ़ाया।

भंडारे में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। गोमुखधाम परिसर में वनवासी मंडल ने फ्लेक्स लगाकर समाज सुधार व बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, जल है तो कल है सहित पर्यावरण बचाने के नारे लिखवाए। पांचधाम एक मुकाम माताजी मंदिर के ज्योतिषाचार्य पुरुषोत्तम भारद्वाज ने जनसमुदाय को संबोधित कर रामायण ग्रंथ के बारे में बताते हुए बताई बातों को जीवन में उतारने की बात कही। नयापुरा, गुमानपुरा, भीलखेड़ी, रतनपुरा में भी आयोजन हुए।

मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक

मांडू | नगर के मंदिरों में सुबह 5 बजे से भक्तों का ताता पूजन के लिए लगने लगा। चतुर्भुज राम मंदिर में महंत त्रिलोकीदासजी के साथ पंडित-आचार्य व संत महात्मा की उपस्थिति में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हनुमानजी का अभिषेक किया। भजन-कीर्तन व पूजन के बाद महाआरती कर प्रसाद बांटा। पं. महेंद्र शर्मा, गोपाल वैष्णव, पं. केदारनाथ तिवारी, दीपक शर्मा, रवींद्र तिवारी ने श्रृंगार किया। शाम तक हनुमानजी की आरती, सुंदरकांड और हनुमान चालीसा के पाठ मंदिरों में गूंजते रहे। संकट मोचन हनुमान मंदिर, परिक्रमावासी धाम के हनुमान व नीलकंठेश्वर के हनुमान मंदिर में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

X
सुबह हवन पूजन के बाद ध्वजा-कलश के साथ भगवान की स्थापना की
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..