• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Dhar
  • बच्चियों से दुष्कर्म के पर सख्त कानून संसद ने बनाना था, कुछ नहीं किया : सीजेआई
--Advertisement--

बच्चियों से दुष्कर्म के पर सख्त कानून संसद ने बनाना था, कुछ नहीं किया : सीजेआई

दिल्ली में आठ माह की बच्ची से दुष्कर्म का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। कोर्ट ने इसे बेहद गंभीर घटना माना है।...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:30 AM IST
बच्चियों से दुष्कर्म के पर सख्त कानून संसद ने बनाना था, कुछ नहीं किया : सीजेआई
दिल्ली में आठ माह की बच्ची से दुष्कर्म का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। कोर्ट ने इसे बेहद गंभीर घटना माना है। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा, बच्चियों से दुष्कर्म पर सुप्रीम कोर्ट पहले भी चिंता जता चुका है। बच्चियों से अमानवीय यौन शोषण के खिलाफ सख्त कानून बनाने का काम हमने संसद पर छोड़ा था। अब तक कुछ नहीं हुआ। ऐसे में आज फिर हमें वही बात दोहरानी पड़ रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एम्स के दो डाॅक्टर अस्पताल जाकर पीड़ित बच्ची की जांच करें। उनके साथ विशेष एम्बुलेंस भी जाए, ताकि जरूरत पड़ने पर उसे तुरंत एम्स में शिफ्ट किया जा सके। दिल्ली लीगल सर्विस अथॉरिटी का सदस्य भी डॉक्टरों के साथ रहेगा। बच्ची की जांच रिपोर्ट के आधार पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी।

वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने बुधवार सुबह चीफ जस्टिस के समक्ष इस केस का उल्लेख किया था। चीफ जस्टिस ने इस पर सुनवाई का निर्णय लेते हुए एडिशनल सॉलीसिटर जनरल को 2 बजे मौजूद रहने को कहा।





एएसजी पीएस नरसिम्हन, तुषार मेहता और पिंकी आनंद तय समय पर कोर्ट पहुंच गए। सुनवाई के दौरान अलख आलोक ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने एक केस में आदेश दिया था कि 10 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म के दोषियों के लिए कड़ी सजा का प्रावधान किया जाए। अब तक कुछ नहीं हुआ। कोर्ट निर्देश दे कि 12 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म का ट्रायल छह महीने में पूरा कर दोषियों को मौत की सजा दी जाए। बच्ची की जांच रिपोर्ट के आधार पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी।

बच्चों को कुंठाओं की भेंट नहीं चढ़ने दे सकते


X
बच्चियों से दुष्कर्म के पर सख्त कानून संसद ने बनाना था, कुछ नहीं किया : सीजेआई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..