Hindi News »Madhya Pradesh »Dhar» हर घर ने कमाई का 2% देकर बनाया आई माता मंदिर

हर घर ने कमाई का 2% देकर बनाया आई माता मंदिर

राजेंद्र डालके | मनावर (धार) धार जिले में मनावर के समीप बोरूद गांव में सिर्वी समाज के हर परिवार ने सात साल तक अपनी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:30 AM IST

राजेंद्र डालके | मनावर (धार)

धार जिले में मनावर के समीप बोरूद गांव में सिर्वी समाज के हर परिवार ने सात साल तक अपनी कमाई का 2 प्रतिशत देकर आई माता का भव्य मंदिर बनवाया है। गुरुवार से यहां सात दिवसीय प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव शुरू हाेगा।

500 किमी दूर से लाए ज्योत

समाज की युवा टोली 500 किमी दूर नरलाई (राजस्थान) से मंदिर की ज्योत पैदल लेकर आए हैं। 8-8 की टोली बनाई गई जो निरंतर 24 घंटे चली। यह टोली 2 जनवरी को नरलाई से चली जो 6 जनवरी को ज्योत लेकर ग्राम बोरूद पहुंचे। ज्योत को अभी पुराने आई माता के मंदिर में रखी गई है।

सिर्वी समाज



मनावर के समीप बोरूद गांव में एक करोड़ की लागत से 7 साल में 21 हजार वर्गफीट में मंदिर के साथ धर्मशाला भी बनाई

दान की जमीन, 172 परिवारों का जनसहयोग

गांव में सिर्वी समाज के 172 परिवार रहते हैं। आई माता मंदिर व धर्मशाला के लिए समाज के पुनाजी बर्फा ने 113 बाय 183 फीट जमीन दान की, जिस पर 2011 में मंदिर निर्माण शुरू हुआ। इससे सात साल में 21000 वर्ग फीट के परिसर में मंदिर व धर्मशाला बनी। जिसमें 1 करोड़ रुपए कुल खर्च आया। समाज के विजय सिंदड़ा, राजेंद्र चोयल ने बताया मंदिर के लिए प्रत्येक परिवार ने प्रतिवर्ष अपनी फसल की आमदनी का 2 प्रतिशत जमा किया, इसी से मंदिर निर्माण के लिए रुपयों की व्यवस्था हो सकी।

यह है प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम

1 फरवरी : कलश यात्रा, पंचांग कर्म, मंडल प्रवेश

2 फरवरी : पूजन, मंडल स्थापना, अग्नि स्थापना, गणेश यज्ञ

3 फरवरी : पूजन, देवी हवन, शतचंडी हवनात्मक, फलाधिवास

4 फरवरी : पूजन, हवन, जलाधिवास

5 फरवरी : पूजन, हवन, आई पंत के धर्मगुरू दीवान साहब माधवसिंह बिलाड़ा का बंधावा एवं शोभा यात्रा, राजस्थानी गैर नृत्य, आईजी गैर मंडल बिलाड़ा, धर्म रथ बैल

6 फरवरी : पूजन, हवन, देवस्नपन, महास्नान

7 फरवरी : भंडारा व पूर्णाहुति, मूर्ति और प्राण-प्रतिष्ठा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×