धार

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Dhar News
  • पहली बार बोर्ड के नतीजे घोषित होने से पहले 11वीं में प्रवेश लेंगे 10वीं के विद्यार्थी
--Advertisement--

पहली बार बोर्ड के नतीजे घोषित होने से पहले 11वीं में प्रवेश लेंगे 10वीं के विद्यार्थी

02 अप्रैल से 30 अप्रैल तक स्कूल चालू रहेंगे लोकल की अन्य कक्षाओं के भी नतीजे नहीं आए जिले में अब तक केवल...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:55 AM IST
02 अप्रैल से 30 अप्रैल तक स्कूल चालू रहेंगे

लोकल की अन्य कक्षाओं के भी नतीजे नहीं आए

जिले में अब तक केवल पांचवीं, आठवीं, नौवीं और 11वीं के नतीजे 31 मार्च को घोषित किए गए हैं। लोकल की पहली से चौथी, छठी, सातवीं के नतीजे भी अभी नहीं आए हैं। जिला शिक्षाधिकारी ने इसके नतीजे 10 अप्रैल के पूर्व घोषित करने के निर्देश दिए हैं।

15 तक प्रवेश लेना जरूरी

10वीं के वे स्टूडेंट्स जिनका नतीजा बोर्ड द्वारा बाद में घोषित किया जाएगा, उन्हें भी नई प्रवेश प्रक्रिया के तहत 11वीं में प्रावधिक प्रवेश लेना अनिवार्य किया है। फेल होने पर रिवर्स हो सकेंगे।

2 अप्रैल से सत्र शुरू की करने की वजह




12वीं की स्थिति स्पष्ट नहीं

जो स्टूडेंट्स 12वीं की परीक्षा दे रहे हैं, उनके नतीजे भी देरी से आएंगे। उनका यदि साल बिगड़ेगा तो वे पुन: 12वीं में कैसे प्रवेश ले सकेंगे, यह स्पष्ट नहीं किया गया है।

प्री बोर्ड के आधार पर देंगे प्रवेश


01 मई से 15 जून तक ग्रीष्मकालीन अवकाश

16 जून से पढ़ाई के लिए पुन: सत्र आगे होगा

11000

स्टूडेंट्स हैं जिले में जो प्रवेश लेंगे

पहली से आठवीं में पुरानी किताबों से होगी पढ़ाई शुरू

प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में भी 2 अप्रैल से ही शैक्षणिक सत्र शुरू हो रहा है। पहली से आठवीं में फिलहाल पुरानी किताबों से ही पढ़ाई कराई जाएगी। पिछले साल बच्चों को किताबें दी गई थीं, उन्हें वापस लेकर नए सत्र में नवप्रवेशित बच्चों को दी जाएंगी। शेष जितनी किताबें बांटना रह जाएंगी, उसके लिए स्कूल से मांग भेजी जाएगी। सोमवार को स्कूलों में प्रवेश उत्सव भी मनाया जाएगा। अप्रैल से सत्र शुरू होने से प्रवेश प्रक्रिया पूर्ण करने में सरकारी स्कूलों के स्टाफ काे सहूलियत हो जाएगी। जून से स्कूलों में पढ़ाई ही चलेगी। अन्य कार्रवाइयों में समय बेकार नहीं जाएगा। हालांकि अप्रैल में स्कूल जाने की आदत नहीं होने से बच्चों की संख्या कम रहने की संभावना है। पानी की कमी और अधिक तापमान भी बाधा है। इसे लेकर कर्मचारी संगठनों ने अप्रैल में स्कूल सुबह की पाली में लगाने की भी मांग की है।

X
Click to listen..