Hindi News »Madhya Pradesh »Dhar» महिला-बाल विकास के दो संचालनालय फिर होंगे एक

महिला-बाल विकास के दो संचालनालय फिर होंगे एक

राज्य सरकार ने महिला एवं बाल विकास विभाग के दोनों संचालनालय एकीकृत बाल विकास परियोजना और महिला सशक्तिकरण को फिर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 04:20 AM IST

राज्य सरकार ने महिला एवं बाल विकास विभाग के दोनों संचालनालय एकीकृत बाल विकास परियोजना और महिला सशक्तिकरण को फिर से एक कर दिया है। राज्य कैबिनेट ने मंगलवार को महिला एवं बाल विकास विभाग के इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। सरकार का विभाग में दो संचालनालय बनाने का अनुभव खराब रहा है, क्योंकि पांच साल में पूरक पोषण आहार व्यवस्था दुरुस्त होने की बजाय समस्याएं बढ़ गई हैं। मैदानी स्तर पर समन्वय की कमी दिखाई देने लगी है। इन पांच सालों में महिला सशक्तिकरण का परफॉर्मेंस अच्छा नहीं रहा।

2012 में बदली थी व्यवस्था: वर्ष 2012 में पूरक पोषण आहार व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए एकीकृत बाल विकास परियोजना और महिला सशक्तिकरण के अलग-अलग संचालनालय बनाए गए थे। तब अफसरों का तर्क था कि दो संचालनालय होंगे तो मैदानी स्तर पर जिम्मेदारी बंटेगी और पूरक पोषण आहार व्यवस्था में सुधार आएगा। नई व्यवस्था से सिर्फ विभाग के सौ सहायक संचालकों को फायदा हुआ। उन्हें उप संचालक के पद पर पदोन्नति दे दी गई।

वात्सल्य भवन में लगेगा दफ्तर: दोनों संचालनालयों को एक करने के बाद विभाग का संचालनालय वात्सल्य भवन में लगेगा। फिलहाल महिला सशक्तिकरण संचालनालय पर्यावास भवन में लगता है।

एसडीएम को राहत राशि स्वीकृत करने के अधिकार: प्राकृतिक आपदा में राहत राशि स्वीकृत करने का अधिकार अब एसडीएम और एसडीओ दिए गए हैं। अभी तक 4 लाख रुपए तक की राहत राशि के अधिकार कलेक्टर को दिए गए थे, लेकिन अब यह अधिकार एसडीएम और एसडीओ को देने के राजस्व विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। अभी तक एसडीएम के पास 50 हजार रुपए तक की राहत राशि स्वीकृत करने के अधिकार थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Dhar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: महिला-बाल विकास के दो संचालनालय फिर होंगे एक
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Dhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×