--Advertisement--

भवन ढहा कर रमणीय स्थल बनाओ, राशि उपलब्ध कराएंगे

मंदिर के बाहरी हिस्से में लगी आग के 5 दिन बाद कमिश्नर ने दौरा किया। भास्कर संवाददाता | धार इंदौर कमिश्नर संजय...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:25 AM IST
मंदिर के बाहरी हिस्से में लगी आग के 5 दिन बाद कमिश्नर ने दौरा किया।

भास्कर संवाददाता | धार

इंदौर कमिश्नर संजय दुबे बुधवार को धार आए। उन्होंने राजबाड़ा के सामने 186 साल पुराने दुर्गा विनायक गणेश मंदिर का बाहरी हिस्सा देखा, जहां आग लगी थी। भवन के हाल देख कर कमिश्नर ने कलेक्टर श्रीमन शुक्ला से कहा- यह भवन भविष्य में हादसे का कारण बनेगा। इसे ढहा दो। आर्किटेक्ट को बुलाओ, भवन ढहाने के बाद मंदिर समेत आसपास उपलब्ध जमीन को रमणीय स्थल बनाने के लिए योजना बनवाओ। जो भी खर्च आएगा, उसके लिए राशि उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने क्रॉफ्ट एंड आर्ट को बढ़ावा देने के लिए वहां गैलरी आदि शामिल करने की बात कही।

वर्तमान में दुर्गा विनायक गणेश मंदिर की जमीन पर बनी दुकानों व मकानों के 40 किरायेदार हैं। भवन ढहाने के बाद की योजना में इनके लिए स्थान को लेकर कमिश्नर बोले कि वे किरायेदार हैं। पीडब्ल्यूडी व नगरपालिका की रिपोर्ट के अनुसार भवन रहने योग्य नहीं है, खतरनाक है। इसे ढहाना होगा। ऐसे में किरायेदारों को हटाना होगा। उन्होंने भवन जलने के बाद दुकानदारों द्वारा किए गए निर्माण को भी अवैध बताया। आग लगने से व्यापारियों को हुए नुकसान की राशि को लेकर कमिश्नर ने कहा कि राहत राशि का कोई प्रावधान ऐसे मामले में नहीं है। व्यापारियों की कमिश्नर के निर्णय पर निगाह थी। उनके सामने विरोध जताने कोई नहीं आया, शाम तक व्यापारियों में निर्णय को लेकर नाराजगी भरी चर्चा होती रही। पीएम आवास योजना ग्रामीण में कम प्रगति करने वाले जनपद सीईओ तिरला, सरदारपुर, बाग व नालछा को कारण बताओ नोटिस जारी करने को कहा।