Hindi News »Madhya Pradesh »Dhar» जॉब देने के आधार पर सरकार का आकलन करें युवा

जॉब देने के आधार पर सरकार का आकलन करें युवा

करंट अफेयर्स पर 30 से कम उम्र के युवाओं की सोच अंकुर चौहान, 25 असिस्टेंट प्रोफेसर, ऑपरेशन्स मैनेजमेंट, जेआईएम,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 02:35 AM IST

करंट अफेयर्स पर 30 से कम उम्र के युवाओं की सोच

अंकुर चौहान, 25

असिस्टेंट प्रोफेसर, ऑपरेशन्स मैनेजमेंट, जेआईएम, नोएडा

chauhan.ankur29@gmail.com

इस सरकार का अंदाज यह है कि जिस भी सरकारी कंपनी में घाटा नज़र आए या फिर कोई गड़बड़ी हो, उसे तुरंत बंद करने पर उतारू हो जाना। जैसे यदि किसी व्यक्ति की उंगली में चोट हो तो उसे मरहमपट्‌टी न कर उखड़वा दिया जाना बेहतर समझा जाए।

लगातार एक-एक कर सरकारी कंपनियों की नीलामी बेहद दुखद है। आज एअर इंडिया कल बीएसएनएल फिर विभिन्न विश्विद्यालय और इस तरह तो पूरा देश निजी हाथों में सौंप दिया जाएगा। कुछ युवा अपना मन यह सोचकर मसोसते हैं कि आरक्षण उनकी नौकरी ले रहा है लेकिन, वे शायद यह नहीं जानते की सरकारों की नीति अब कुछ इस प्रकार की हो चुकी है कि न सरकारी कंपनियां रहेंगी, न सरकार की कोई जिम्मेदारी होगी और न आरक्षण का मुद्‌दा। दुःख तो उन युवाओं के लिए महसूस होता है जो इस गलफहमी में थे की मोदी सरकार तेजी से विकास की राह पर चलकर बड़ी संख्या में नौकरियां पैदा करेगी पर बीते चार वर्ष इस लिहाज से कुछ होता हुआ नहीं दिखा। दूसरी तरफ राजनीतिक दलों के लिए लगता है कि अब किसी सुधार का मतलब जाति-धर्म के मतभेद को पुरजोर तरीके से प्रस्तुत करना है और लोगों को सड़कों पर मनमानी करने के लिए उकसाकर अराजकता को जन्म देना है।

यह बात गौर करने वाली है कि जिस प्रकार जाति-धर्म से ऊपर देश है उसी प्रकार आरक्षण से ऊपर सरकारी या प्राइवेट नौकरियों की मौजूदगी है। यदि नौकरियां ही नहीं होंगी तो आरक्षण से लाभ या हानि क्या? बेहतर होगा यदि नौजवान सरकारों को रोजगार पैदा करने पर मजबूर करें और उनका मूल्यांकन इसी आधार पर करें न कि जाति-धर्म या आरक्षण के समर्थक या विरोधी की भूमिका पर। यहां हम बेरोजगारी के मसले पर मैन्यूफैक्चरिंग आदि पुराने समाधानों की दृष्टि से सोच रहे हैं वहीं, तेजी से बढ़ते ऑटोमेशन ने इस तरह के समाधान की व्यर्थता तय कर दी है। दरअसल, टेक्नोलॉजी की बदलती दुनिया को देखकर हमें वर्क फोर्स तय करने पर ध्यान देना चाहिए। इस दृष्टि स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रम महत्वपूर्ण है पर हमें उनमें भी हमें नए विकसित कौशल के विकास पर ध्यान केंद्रित करना होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×