--Advertisement--

सीएम की घोषणा के मुताबिक बंद नहीं हुए प्रदेशभर के अहाते

इंदौर | प्रदेश में शराब दुकानों के पास अहाते बंद नहीं किए जाने को लेकर दायर जनहित याचिका पर याचिकाकर्ता ने हाई...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:40 AM IST
इंदौर | प्रदेश में शराब दुकानों के पास अहाते बंद नहीं किए जाने को लेकर दायर जनहित याचिका पर याचिकाकर्ता ने हाई कोर्ट के समक्ष रिजाइंडर प्रस्तुत किया है। इसमें लिखा है कि मुख्यमंत्री की घोषणा के मुताबिक सारे अहाते बंद होना थे, लेकिन कैबिनेट ने घोषणा से उलट फैसला लिया है। केवल वही अहाते बंद हुए, जिनकी नीलामी में किसी ने दिलचस्पी नहीं दिखाई। हाई कोर्ट अब इस मामले में अंतिम सुनवाई करेगी। याचिकाकर्ता प्रमोद द्विवेदी की ओर से अधिवक्ता मनीष यादव ने रिजाइंडर पेश किया। इसके पूर्व सरकार ने जवाब में कहा था कि अहाते बंद किए जाना संभव नहीं है। अहाते बंद किए तो लोग खुले में, रोड पर शराब पीना शुरू कर देंगे। इससे विवाद की स्थिति बनेगी। इस जवाब पर याचिकाकर्ता ने रिजाइंडर लिया था। रिजाइंडर में यह भी कहा है कि सीएम ने पिछले साल सार्वजनिक कार्यक्रम में सभी अहाते बंद करने की घोषणा की थी। घोषणा के आधार पर याचिका लगाई थी तो हाई कोर्ट ने ही कहा था कि घोषणा के अनुसार कार्रवाई नहीं होने पर फिर से याचिका लगाई जा सकती है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..