--Advertisement--

हर परिवार को मिलेगा 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा

आजादी की वर्षगांठ 15 अगस्त 2018 से आयुष्मान भारत योजना शुरू होने जा रही है। इसमें जिले के हर परिवार को पांच लाख रुपए...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:45 AM IST
आजादी की वर्षगांठ 15 अगस्त 2018 से आयुष्मान भारत योजना शुरू होने जा रही है। इसमें जिले के हर परिवार को पांच लाख रुपए प्रतिवर्ष का सुरक्षा कवच प्रदान किया जाएगा। इस योजना के तहत बीमा होने पर चिंहित अस्पतालों में चिह्नित बीमारियों का इलाज कराने की सुविधा मिलेगी।

इस अभिनव योजना के क्रियान्वयन के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। आयुष्मान भारत योजना में 60 प्रतिशत राशि केंद्र सरकार और 40 प्रतिशत राशि राज्य सरकार देगी। इस योजना में धार जिले के भी लाभान्वित होने की उम्मीद की जा रही है। योजना में हितग्राहियों का निर्धारण वर्ष 2011 की जनगणना से किया जाएगा। इसके लिए सामाजिक, आर्थिक, जातीय आधार की श्रेणियां होंगी। योजना के तहत जितने परिवार पात्र होंगे उन्हें लाभ दिलाया जाएगा।

जानकारी के अनुसार योजना के तहत सर्वे की प्रक्रिया एक मई सात मई चलेगी। 15 मई तक इनका वेरीफिकेशन किया जाएगा। इस कार्य को आशा कार्यकर्ता करेंगी। जरूरत होने पर एएनएम, एनपीएस व एमपीडब्ल्यू से सहयोग लिया जा सकेगा। सत्यापन कार्य ग्राम पंचायत सचिव द्वारा किया जाएगा। ऑनलाइन पंजीयन रोजगार सहायक के अलावा आउटसोर्स से भी कराया जा सकेगा। प्रारंभिक प्रक्रिया में आशा कार्यकर्ता को फार्म डाउनलोड करना होंगे। इसके लिए टोल फ्री नंबर 1800-212-4684 पर सबमिट करना होगा। इसके बाद एक्टिवेट कोड भी प्रिंटआउट पर आ जाएगा।

नई योजना

सामाजिक, आर्थिक, जातीय आधार की होंगी श्रेणियां, 2011 की जनगणना के अनुसार किया जाएगा निर्धारण

30 को मनाया जाएगा आयुष्मान भारत दिवस

ग्राम पंचायत स्तर पर 30 अप्रैल को आयुष्मान भारत दिवस मनाया जाएगा। इसमें परिवारों की सूची का वाचन किया जाएगा। इस कार्य को जिला पंचायत से संबद्ध अमला करेगा। इसके पश्चात किसी प्रकार की आपत्ति होने पर लोग आशा कार्यकर्ता और पंचायत सचिव से मिलकर समस्या का समाधान करा सकेंगे।

कामकाज करने पर मानदेय देने का प्रावधान

आयुष्मान भारत योजना के क्रियान्वयन के लिए शुरूआती दौर में कामकाज करने वालों को मानदेय प्रदान किए जाने का प्रावधान किया गया है। आशा कार्यकर्ताओं को प्रति परिवार चार रुपए मिलेंगे। जबकि सत्यापन के लिए ग्राम पंचायत सचिव को तीन रुपए प्रति परिवार प्रदान किए जाएंगे।