चेन्नई में 900 ग्राम की प्रीमैच्याेर बच्ची काे पेसमेकर लगाया, सीने में जगह नहीं थी, ताे पेट में फिट िकया

Dhar News - चेन्नई | एक िकलाेग्राम से भी कम वजन की प्रीमैच्याेर बच्ची काे चेन्नई के िनजी अस्पताल में पेसमेकर लगाया गया। बच्ची...

Nov 18, 2019, 07:16 AM IST
Dhar News - mp news applied pacemaker of 900 g premature baby girl in chennai there was no room in chest fit in stomach
चेन्नई | एक िकलाेग्राम से भी कम वजन की प्रीमैच्याेर बच्ची काे चेन्नई के िनजी अस्पताल में पेसमेकर लगाया गया। बच्ची का जन्म 27 हफ्ते की गर्भावस्था के बाद ही हाे गया था। डाॅक्टराें का कहना है कि उसके हृदय में जन्मजात ब्लाॅकेज था। सामान्य व्यक्ति का हृदय एक मिनट में 140 से 160 बार धड़कता है, लेकिन उसका हृदय 55 से 60 बार ही धड़क रहा था। सूरिया हाॅस्पिटल की वरिष्ठ कंसल्टेंट िनयाेनैटाेलाॅजिस्ट दीपा हरिहरण ने बताया कि दुनिया में अब तक एेसे िसर्फ तीन मामले ज्ञात हैं, जिनमें एक िकलाेग्राम से कम वजन की प्रीमैच्याेर बच्ची काे पेसमेकर लगाया गया हाे। इस बच्ची की मां काे ल्यूपस नामक बीमारी थी। इस वजह से वह कई सालों से गर्भधारण नहीं कर पा रही थी। गर्भावस्था के दाैरान स्टेराॅइड थेरेपी के बावजूद बच्ची ने 10 मई 2019 काे जन्म ले लिया। जन्म से ही बच्ची की धड़कन 40 से 45 प्रति िमनट थी। पेसमेकर लगाए जाने के दिन उसका वजन 900 ग्राम था। बच्ची के सीने में बहुत कम जगह थी। इसलिए पेसमेकर उसके पेट में लगाना पड़ा। सर्जरी के बाद उसे 70 दिन के िलए वेंटीलेटर पर रखा गया था। अस्पताल से छुट्टी िदए जाते समय उसका वजन ढाई िकलाे हाे गया था। डाॅक्टराें के मुताबिक, अब तक माना जाता था कि ल्यूपस पश्चिम की महिलाअाें काे ही प्रभावित करता है, लेकिन अब एेसे मामले यहां भी दिखाई दे रहे हैं।

X
Dhar News - mp news applied pacemaker of 900 g premature baby girl in chennai there was no room in chest fit in stomach
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना