सघन बागवानी पद्धति से बनाया जामफल का बगीचा

Dhar News - जिले के ग्राम एहमद में किसान राजेश पिता शांतिलाल पाटीदार ने अपने खेत में आधुनिक तरीके अपनाकर अपनी तकदीर बदल ली है।...

Nov 11, 2019, 07:55 AM IST
जिले के ग्राम एहमद में किसान राजेश पिता शांतिलाल पाटीदार ने अपने खेत में आधुनिक तरीके अपनाकर अपनी तकदीर बदल ली है। पाटीदार ने जहां फूलों की खेती को अपनाया वहीं उन्होंने अपने खेत में पानी की कमी को पूरा करने के लिए तालाब तक बनवाया। इससे उनकी फसलों की सिंचाई में उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई। पाटीदार दसवीं कक्षा तक पढ़े हैं, लेकिन इसके बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ खेती की ओर रुझान किया और उसे सार्थक बनाकर ही छोड़ा।

पाटीदार ने 20 बीघा क्षेत्र में अप्रैल-मई 2019 में 5 हजार जामफल के पौधे लगाए हैं। इसके बाद जून में 3 हजार जामफल के पौधे लगाए गए हैं। पौधों की वैरायटी थाईलैंड की है। किसान ने कहा कि मैंने सघन बागवानी पद्धति अपनाई है। जिसमें पास-पास पौधे लगाए जाते हैं। इसमें उत्पादन 3 से 4 गुना प्राप्त होता है। जामफल की फसल 18 माह में तैयार होगी। आगामी दीपावली तक फल आ जाएंगे।

धार. खेत में गेंदे की खेती बताते हुए किसान राजेश पाटीदार।

15 बीघा में ली गेंदे के फूलों की फसल : राजेश पाटीदार ने बताया कि यह पहला वर्ष होने के कारण गेंदे (फूल) की खेती की। 20 बीघा में गेंदे की फसल ली गई है। जिसमें से 15 बीघा की गेंदे की फसल का उत्पादन 15 लाख 50 हजार रुपए का हुआ। 5 बीघा गेंदे की फसल अभी निकालना बाकी है। बेची गई गेंदा की फसल में शुद्ध रूप से 11 लाख रुपए का मुनाफा हुआ है।

अमरुद के खेत में एक ड्रिप लाइन लगाई, बाद में दो और लगाएंगे : वर्तमान में अमरूद के खेत में एक ड्रिप लाइन लगी है। पौधे बड़े होने पर 2 ड्रिप लाइन और बिछाई जाएगी। सभी सिस्टम पहले से लगाए जा चुके हैं और यह एक स्थान से संचालित होगा। पाटीदार समय-समय पर कृषि वैज्ञानिकों से सलाह लेते रहते हैं।

18 लाख की लागत से बनवाया तालाब : पाटीदार ने अपने खेतों में गर्मी में सिंचाई के लिए साढ़े तीन बीघा क्षेत्र में 18 लाख रुपए की लागत से प्लास्टिक बिछाकर तालाब का निर्माण कर पानी संग्रहित किया है। यह तालाब पोकलेन मशीन से खुदवाया गया है। इस तालाब की क्षमता 2 करोड़ 40 लाख लीटर पानी की है। 3 कुएं तथा 1 नदी से पाइप लाइन बिछाकर इस तालाब में पानी भरा गया है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना