• Hindi News
  • Mp
  • Dhar
  • Pithampur News mp news removed 217 old workers to avoid wage hike new workers hired on labor contract

वेतन वृद्धि से बचने के लिए पुराने 217 कर्मियों को हटाया, लेबर कांट्रेक्ट पर रखे नए कर्मचारी

Dhar News - प्रभावित श्रमिकों ने दी अांदाेलन की चेतावनी अाैद्याेगिक नगरी स्थित एवीटेक लिमिटेड कंपनी द्वारा कंपनी को...

Feb 15, 2020, 08:45 AM IST

प्रभावित श्रमिकों ने दी अांदाेलन की चेतावनी

अाैद्याेगिक नगरी स्थित एवीटेक लिमिटेड कंपनी द्वारा कंपनी को घाटे में दर्शाकर पुराने कर्मचारियों की वेतन वृद्धि से बचने के लिए 217 कर्मचारियों को हटा दिया। इसके बाद कंपनी प्रबंधन ने प्रशिक्षण व लेबर कांट्रेक्ट पर नए कर्मियाें काे काम पर रख लिया है। इसके चलते प्रभावित परिवाराें के सामने राेजी-राेटी का संकट खड़ा हाे गया है।

यह जानकारी देते हुए एवीटेक व हिंदुस्तान मोटर्स श्रमिक संघ के पदाधिकारी धर्मपाल अधिकारी ने बताया कंपनी प्रबंधन ने घाटा दर्शाते हुए श्रम आयुक्त को 217 कर्मचारियों को हटाने का आवेदन दिया था। श्रमायुक्त ने कंपनी का आवेदन स्वीकार कर इसकी स्वीकृति दे दी कि कंपनी ने 217 लोगों को हटाने के लिए 25 अक्टूबर 2019 को लेबर कमिश्नर को आवेदन दिया था, लेकिन वह 19 दिसंबर 2019 को खारिज हो गई थी। श्रम कानून के तहत एक बार याचिका खारिज होने के बाद एक साल तक कर्मचारियाें की छंटनी नहीं की जा सकती है। इसके बावजूद फिर से 23 दिसंबर 2019 को कंपनी ने श्रम वकील बीएल नागर शामिल हुए थे। बैठक में आश्वासन दिया कि किसी को नहीं निकाला जाएगा। इसके बाद 3 फरवरी 2020 को श्रम आयुक्त ने कंपनी की साठगांठ से 217 लोगों को बाहर का रास्ता दिखाकर रातोंरात सभी 217 श्रमिकाें के खाताें में उनकी छंटनी वाले दिन तक का हिसाब डाल दिया। अधिकारी ने बताया इस संबंध में हम मुख्यमंत्री से भी दाे बार मिले थे। उन्होंने भी हमें आश्वासन दिया था। श्रम मंत्री महेंद्रसिंह सिसोदिया के पीए सुरेंद्र श्रीवास्तव ने व श्रम मंत्री ने भी लेबर कमिश्नर को कार्रवाई के संबंध में कहा था, जिस पर लेबर कमिश्नर ने आश्वासन दिया था कि इन 217 लोगों को आश्वस्त रहना हाेगा कि इनका कुछ नहीं होगा। इसके बाद भी उक्त सभी काे हटाकर कंपनी से प्रशिक्षण व लेबर कांट्रेक्ट पर करीब 400 श्रमिकाें काे रख लिया। हम चाहते हैं कि यह मामला औद्योगिक न्यायाधिकरण में चले और वही इसका फैसला करे। दो से तीन बार हम लोग श्रमायुक्त कार्यालय जा चुके हैं, लेकिन लेबर कमिश्नर अपने ऑफिस में नहीं मिलते। अधिकारी सहित विजय पाटिल, राजेश चौबे व राजेश
पटेल ने बताया यदि कमिश्नर ने हमारी सुनवाई नहीं की, तो हम सभी परिवार सहित कंपनी के बाहर धरने पर बैठेंगे और भूख हड़ताल भी करेंगे।

श्रमायुक्त ने फाेन रिसीव नहीं किया...

लेबर कमिश्नर आशुतोष अवस्थी से चर्चा करने के लिए लगातार प्रयास किए गए, लेकिन उन्हाेंने फाेन रिसीव नहीं किया।

श्रमिकाें काे भाेपाल बुलवाया है : श्रम मंत्री

श्रम मंत्री महेंद्रसिंह सिसाैदिया ने बताया शिकायत मिलने पर मैंने 16 फरवरी काे कंपनी के सभी हटाए गए श्रमिकाें काे चर्चा के लिए भोपाल बुलाया है। मुख्य सचिव के सामने उनसे चर्चा करके उचित कार्रवाई करेंगे। लेबर कमिश्नर की शिकायत मिलने पर जांच कर उन पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।

कंपनी के प्रबंधक जब्बार अली से चर्चा करने पर उनका कहना था मैं इस मामले में कुछ भी बता पाने के लिए अधिकृत नहीं हूं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना