डंकी एवं हल्के चने की बेचवाली से भावों में तेजी के आसार कम

Dhar News - नई दिल्ली | कुछ तेजी वाले सटोरिए चने का स्टॉक, ठंडी मांग को नकारते हुए लंबे समय से तेजी का राग अलाप रहे थे। इस तेजी के...

Bhaskar News Network

Sep 13, 2019, 07:10 AM IST
Dhar News - mp news slowing of prices due to selling of stings and light gram
नई दिल्ली | कुछ तेजी वाले सटोरिए चने का स्टॉक, ठंडी मांग को नकारते हुए लंबे समय से तेजी का राग अलाप रहे थे। इस तेजी के माहौल में पिछले महीनों में कई स्टॉकिस्टों एवं दाल मिलों ने इस धारणा से स्टॉक कर लिया था कि आने वाले दिनों में चना 6000 रुपए बिकने वाला ही है। उनके पास यह भी तर्क था कि चने का आयात भी बंद है। इससे डिब्बे में आए दिन तेजी-मंदी करते रहे और हाजर बाजार में कृत्रिम तेजी लाने के अनेक प्रयास किए किंतु सफलता नहीं मिली।

अब सटोरियों को ऐसा आभास होने लगा है कि चने का कारोबार काफी निराशाजनक रहा है। हाल ही में चना उत्पादक राज्यों में जोरदार वर्षा, खाद्य मंत्री द्वारा जमा स्टॉक से बेचवाली का आदेश बाजार में दाल और बेसन की मांग में 30 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आ गई है। ऐसी स्थिति में डिब्बे में एवं नैफेड समर्थन मूल्य से चना नीचे बेचने लगे हैं। इससे चारों तरफ बेचवाली निकलने से चने में बड़ी तेजी के संयोग लगभग समाप्त होते नजर आ रहे हैं।

चना मंदी वालों की चपेट में

नई दिल्ली |
दिल्ली में चने का स्टॉक नहीं के समान है। चने का बीज खेतों में डालने का समय भी नहीं है। नई फसल मार्च माह में आएगी। विदेशों से आयात पड़तल भी लगभग नहीं के समान है। चने के आयात पर 70 प्रतिशत शुल्क है और 10 प्रतिशत सेंस भी लगेगा। चने का समर्थन मूल्य 4620 रुपए है। किसान का भला हो या न हो किंतु मंदी का कारोबार करने वालों का भला 100 प्रतिशत हो रहा है। उपरोक्त तेजी के कारणों के बाद सरकारी नीतियां कारोबार पर भारी पड़ रही है।

X
Dhar News - mp news slowing of prices due to selling of stings and light gram
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना