Hindi News »Madhya Pradesh »Ganjbasoda» बीआरसी को ताला खुलवाने के लिए करना पड़ी मशक्कत, एक शिक्षक पदस्थ, दूसरा जल्द होगा

बीआरसी को ताला खुलवाने के लिए करना पड़ी मशक्कत, एक शिक्षक पदस्थ, दूसरा जल्द होगा

एक दिन पहले ग्रामीणों ने स्कूल में लगा दिया था ताला भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा विकासखंड के ग्राम पंचायत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 11, 2018, 02:35 AM IST

एक दिन पहले ग्रामीणों ने स्कूल में लगा दिया था ताला

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

विकासखंड के ग्राम पंचायत मासेर अंतर्गत आने वाली गुलावरी माध्यमिक स्कूल का ताला खुलवाने में बीआरसी कपिल शर्मा को काफी मशक्कत करनी पड़ी। गांव से ही जिला शिक्षाधिकारी से उन्होंने मोबाइल पर चर्चा की और बताया ग्रामीण दो शिक्षकों को पदस्थ करने की मांग पर अड़े हैं, जब तक दो शिक्षकों को पदस्थ करने का आदेश जारी नहीं होता तब तक ताला खोलने तैयार नहीं हैं।

जिला शिक्षाधिकारी से चर्चा के बाद बीआरसी ने बताया कि एक शिक्षक रीछई स्कूल का कल से पढ़ाने आने लगेगा। एक अतिथि शिक्षक की व्यवस्था 15 दिन में कर दी जाएगी। इसके बाद ही ग्रामीण स्कूल भवन का ताला खोलने तैयार हुए। गुलावरी गांव में सोमवार को गुस्साए ग्रामीणों ने स्कूल से बच्चों को बाहर निकालकर ताला डाल दिया था। प्रशासन और शिक्षा विभाग के विरोध में जमकर नारेबाजी की थी। गांव में माध्यमिक स्कूल है उसमें छात्र छात्राओं की संख्या 85 है। स्कूल में मात्र एक शिक्षक है, उसे बीएलओ और सरकारी कार्य से समय नहीं मिलता। इस कारण स्कूल में बच्चे खेल कूद कर वापस घर आ जाते हैं। जिस दिन शिक्षक को समय मिल जाता है उसी दिन स्कूल लगता है। इसकी शिकायत सरपंच से लेकर गांव के लोग एसडीएम, तहसीलदार, कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी से करके थक चुके हैं।

बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। इससे परेशान होकर उन्होंने स्कूल में ताला डाल दिया। इस घटना के बाद बीआरसी स्कूल का ताला खुलवाने जैसे ही पहुंचे। गांव के ग्रामीण एकत्रित हो गए और पहले जमकर गुस्सा निकाला। उसके बाद बीआरसी से चर्चा करने तैयार हुए। गांव के सरपंच बाबूलाल लोधी ने बताया कि दो साल से स्कूल की हालत को लेकर ग्रामीण परेशान हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ganjbasoda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×