Hindi News »Madhya Pradesh »Ganjbasoda» बोवनी शुरू लेकिन कृषि विभाग के पास अब तक नहीं है खरीफ बोवनी का लक्ष्य

बोवनी शुरू लेकिन कृषि विभाग के पास अब तक नहीं है खरीफ बोवनी का लक्ष्य

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा अंचल में अच्छी बारिश के साथ किसानों ने बोवनी शुरू कर दी है। किसान परेशान इस बात के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 27, 2018, 02:40 AM IST

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

अंचल में अच्छी बारिश के साथ किसानों ने बोवनी शुरू कर दी है। किसान परेशान इस बात के लिए हैं कि उसे अच्छी गुणवत्ता का बीज नहीं मिल पा रहा है। किसान प्रमाणित बीज के लिए विभाग और सहकारी समितियों के चक्कर लगा रहे हैं। बीज न मिलने पर प्री मानसून बारिश के बाद किसानों ने बाजार से ही सोयाबीन और उड़द खरीदकर खेतों में डालना शुरु कर दिया है। दूसरी तरफ कृषि विभाग अब तक तय नहीं कर पाया है कि इस बार खरीफ फसल का लक्ष्य कितना होगा। सोयाबीन, उड़द, मूंगफली और धान का कितना रकबा रहेगा। अब तक विकासखंड में 15 से 20 फीसदी के बीच बोवनी हो चुकी है। कई किसान बोवनी कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि सरकारी और सहकारी संस्थाओं के भरोसे खाद बीज के लिए बैठे रहे तो खरीफ की फसल ही हाथ से चली जाएगी। इसलिए बाजार में प्रमाणित बीज के नाम पर जो सोयाबीन और उड़द मिल रहा है उससे ही काम चलाने में समझदारी है। समय हाथ से निकल गया तो फसल भी हाथ से चली जाएगी।

अविश्वसनीय है कि सहकारी समिति का बीज: इधर किसान नेता भूपेंद्रसिंह यादव का कहना है जो पंजीकृत समितियां बीज सप्लाई करती हैं। उनके पास भी उतनी पैदावार नहीं होती, जितनी सप्लाई करती हैं। वह भी बाजार से सोयाबीन खरीदकर प्रमाणित बीज तैयार करती है। वही किसानों को डेढ़ गुना दाम पर मिलता है। इससे किसान खुद बाजार से सोयाबीन खरीद कर खेतों में डालना पसंद करने लगे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ganjbasoda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×