• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Ganjbasoda
  • कई स्वास्थ्य केंद्रों में नहीं हैं डॉक्टर, अिधकतर किराए के भवनों और दालानों में हो रहे संचालित
--Advertisement--

कई स्वास्थ्य केंद्रों में नहीं हैं डॉक्टर, अिधकतर किराए के भवनों और दालानों में हो रहे संचालित

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा विकास खंड के शासकीय अस्पताल में मरीजों की तादाद लगातार बढ़ रही है। दूसरी तरफ बड़े...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:45 AM IST
कई स्वास्थ्य केंद्रों में नहीं हैं डॉक्टर, अिधकतर किराए के भवनों और दालानों में हो रहे संचालित
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

विकास खंड के शासकीय अस्पताल में मरीजों की तादाद लगातार बढ़ रही है। दूसरी तरफ बड़े गांवों को छोड़कर शेष स्थानों पर स्वास्थ्य केंद्रों पर ताले लगे हुए हैं। इन केंद्रों पर स्वास्थ्य कर्मचारी जाते ही नहीं हैं। डॉक्‍टरों की पदस्थापना नहीं होने से ग्रामीण का उपचार नीम- हकीमों के भरोसे चल रहा है। विकास खंड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत बासौदा और त्योंदा तहसील के 288 गांव आते हैं। इन गांवों में कुपोषण चिन्हित 25 गांव भी आते हैं।

दालान में चल रहे कई स्वास्थ्य केंद्र : पिछले 16 सालों से विकासखंड में 15 स्वास्थ्य केंद्र किराए के मकानों या गांव के मकानों की दालानों में चल रहे हैं। विकासखंड में 28 उप स्वास्थ्य केन्द्र हैं। सिर्फ 12 केन्द्रों के भवन बने हुए हैं।

इनमें से पिपराहा, भिदवासन, हामिदपुर, ककरावदा, सिरनोटा, ऊहर के भवन डेड घोषित किए जा चुके हैं। 15 स्थानों पर स्वास्थ्य केन्द्र किराए के मकान या फिर ग्रामीणों के दालानों में चलते हैं। इसलिए वहां कार्यकर्ता भी नहीं जाते हैं। सड़क पर बसे गांवों को छोड़कर दूर-दराज क्षेत्रों और केंद्रों में स्थापित उप स्वास्थ्य केन्द्र में ताले पड़े रहते हैं जो उप स्वास्थ्य केन्द्र सड़क किनारे गांवों में बने हुए हैं उनमें स्वास्थ्य कार्यकर्ता अवश्य चक्कर लगाने आते हैं लेकिन दूर- दराज के गांवों में स्वास्थ्य कार्यकर्ता महीनों नहीं जाते। कई उप स्वास्थ्य केंद्र कर्मचारियों के भरोसे चल रहे हैं। वहां डॉक्‍टरों के पद खाली पड़े हैं।

नाम का ही रह गया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

त्योंदा तहसील मुख्यालय पर 30 बिस्तरों का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है लेकिन केंद्र पर डॉक्‍टरों के पद खाली हैं। कभी एक्स-रे मशीन खराब रहती है तो कभी एक्स-रे करने वाला कर्मचारी स्वास्थ्य केंद्र में उपस्थित नहीं रहता है। इसी तरह गमाखर गांव का उप स्वास्थ्य केंद्र कई सालों से कंपाउंडर के भरोसे चल रहा है। वहां डॉक्टर का पद खाली पड़ा है।

X
कई स्वास्थ्य केंद्रों में नहीं हैं डॉक्टर, अिधकतर किराए के भवनों और दालानों में हो रहे संचालित
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..