• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ganjbasoda News
  • गुलावरी में ग्रामीणों ने बच्चों को स्कूल से बाहर निकालकर ताला डाला, जमकर की नारेबाजी
--Advertisement--

गुलावरी में ग्रामीणों ने बच्चों को स्कूल से बाहर निकालकर ताला डाला, जमकर की नारेबाजी

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा विकासखंड की ग्राम पंचायत मासेर के गुलावरी गांव में सोमवार को गुस्साए ग्रामीणों ने...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 02:45 AM IST
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

विकासखंड की ग्राम पंचायत मासेर के गुलावरी गांव में सोमवार को गुस्साए ग्रामीणों ने स्कूल से बच्चों को बाहर निकालकर ताला डाल दिया। इस मौके पर प्रशासन और शिक्षा विभाग के विरोध में जमकर नारेबाजी की। गांव में माध्यमिक स्कूल है उसमें छात्र छात्राओं की संख्या 85 है और स्कूल में मात्र एक शिक्षक पदस्थ हैं। उस शिक्षक को बीएलओ और सरकारी कार्य से समय नहीं मिलता। इससे स्कूल में बच्चे खेल कूद कर वापस घर आ जाते हैं। जिस दिन शिक्षक को समय मिल जाता है उसी दिन स्कूल लगता है। इसकी शिकायत सरपंच से लेकर गांव के लोग एसडीएम, तहसीलदार, कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी से करके थक चुके हैं। बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। इससे परेशान होकर उन्होंने स्कूल में ताला डाल दिया।

बच्चे गांव के सरकारी स्कूलों पर ही निर्भर

सरपंच बाबूलाल लोधी ने बताया कि संपन्न लोग परेशान होकर अपने बच्चों को गंजबासौदा या ग्यारसपुर के प्राइवेट स्कूलों में पढ़ा रहे हैं लेकिन गरीब परिवार के बच्चे गांव के सरकारी स्कूल पर निर्भर हैं। कक्षा 1 से 8वीं तक कुल 85 बच्चे स्कूल में पढ़ रहे हैं। स्कूल में एक मात्र शिक्षक राहुल शर्मा पदस्थ हैं। उनको बीएलओ बना रखा है, निर्वाचन में ड्यूटी है। इससे स्कूल में पढ़ाई नहीं हो पाती है। जिस दिन शिक्षक नहीं आते हैं स्कूल बंद रहता है। शिक्षक भी विभाग को नीचे से ऊपर तक लिखित में दे चुके हैं। ग्रामीण शिक्षकों की नियुक्ति की मांग कर चुके हैं। प्रशासन से लेकर शिक्षा विभाग आंखें बंद किए बैठा है। बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। इससे गांव के लोगों में खासा गुस्सा है।