Hindi News »Madhya Pradesh »Ganjbasoda» सामान्य से कम वजन के 4337 बच्चे मिले इनमें से 345 ऐसे हैं जिनकी हालत गंभीर

सामान्य से कम वजन के 4337 बच्चे मिले इनमें से 345 ऐसे हैं जिनकी हालत गंभीर

एक दिन में करीब 1 लाख 48 हजार 734 रुपए बच्चों के नाश्ते और भोजन पर हो रहा खर्च भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा विकासखंड...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 05, 2018, 02:45 AM IST

एक दिन में करीब 1 लाख 48 हजार 734 रुपए बच्चों के नाश्ते और भोजन पर हो रहा खर्च

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

विकासखंड के 21268 बच्चों में से 4337 बच्चे थर्ड ग्रेट के कुपोषित पाए गए। इनमें से 345 ऐसे हैं इनकी हालत चिंताजनकक है। मई 2018 की महिला बाल विकास कि विभागीय रिपोर्ट से पता चला है कि 14 बच्चों न तो मरे हुए ही पैदा हुए हैं। 16 साल से विकासखंड में कुपोषण के खिलाफ चल रही सरकारी जंग भी हालातों पर काबू पाने में फिलहाल पूरी तरह सफल नहीं हो पाई है। महिला एवं बाल विकास परियोजना विभाग एक दिन में करीब 1 लाख 48 हजार 734 रुपए बच्चों के नाश्ते और भोजन पर प्रतिदिन खर्च कर रही है। इसके बावजूद भी कुपोषित बच्चों की संख्या घटने के स्थान पर बढ़ती जा रही है। सबसे ज्यादा चिंताजन बात यह है कि विभाग स्थिति को गंभीरता से नहीं ले रहा है। यदि साल भर की विभागीय रिपोर्ट पर गौर किया जाए तो कुपोषण की हालत का पता चल जाएगा। स्थिति सुधरने के स्थान पर जस की तस बनी हुई है। विभाग के अधिकारी अब इस हालत के लिए प्रभावित बच्चों के परिजनों को दोषी बता रहे हैं।

हम लगातार पूरी मेहनत कर रहे हैं

हम अपनी ओर से लगातार पूरी मेहनत कर रहे हैं। जितना बेहतर कार्य कर सकते हैं, उतना कर रहे हैं। सभी योजनाओं का लाभ दिला रहे हैं लेकिन ग्रामीण अशिक्षित हैं। घरों को स्वच्छ नहीं रखते। बच्चों की सही देखभाल नहीं करते। सीमित परिवार उनको अच्छा नहीं लगता जो स्थिति है। उसके लिए विभाग जिम्मेदार नहीं है। माधवी सिंह, महिला एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी बासौदा-2।

कुपोषित बच्चों की संख्या घटने के स्थान पर बढ़ती जा रही

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ganjbasoda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×